नई दिल्ली, एएनआइ। सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने पीओके (PoK) में आतंकवादी शिविरों पर की गई कार्रवाई को लेकर बड़ा बयान दिया है। सेना प्रमुख ने कहा हा कि सुरक्षाबलों द्वारा की गई इस जवाबी कार्रवाई में फाकिस्तानी सेना और आतंकियों को भारी नुकसान पहुंचा है। उन्होंने कहा कि इस दौरान 6 से 10 पाकिस्तनी सैनिक मारे गए हैं। 3 आतंकी कैंप पूरी तरह से तबाह हो गए हैं और चौथे को भारी नुकसान पहुंचा है।

सेना प्रमुख ने कहा कि जब से आर्टिकल 370 को जम्मू-कश्मीर से निरस्त किया गया था, तब से हमें राज्य में शांति बिगाड़ने के लिए सीमा पार से आतंकवादियों द्वारा घुसपैठ के बार-बार इनपुट मिल रहे थे। बीते कुछ महीनों में घुसपैठ के प्रयास की कई घटनाएं सामने आई हैं। हमारे पास पुख्ता सूचना थी कि कुछ आतंकी घुसपैठ की कोशिश में हैं जिसके बाद हमने यह ऐक्शन लिया गया है।

एक्शन को लेकर भारतीय सेनाध्यक्ष बिपिन रावत ने कहा कि हमें जानकारी मिली थी कि आतंकवादी सीमा के पास मौजूद आतंकी कैंपों के करीब आ रहे हैं। पिछले 1 महीने में हमने पाकिस्तान की तरफ से आतंकवादियों की घुसपैठ के प्रयासों को देखा है।

उन्होंने कहा कि कल शाम तंगधार में आतंकवादियों की घुसपैठ कराने का प्रयास किया गया था। पाकिस्तान की सेना ने हमारी पोस्ट पर हमला किया जिसमें हमारे सैनिक शहीद हो गए। इससे पहले की आतंकी घुसपैठ में कामयाब हो हमने तय किया की हम उन आतंकी शिविर को निशाना बनाएगे। हमारी कार्रवाई में आतंकवादियों के ठिकानों को गंभीर नुकसान पहुंचा है।

बता दें कि पाकिस्तानी सेना लगातार आतंकियों की घुसपैठ कराने की कोशिश में लगी हुई है। भारतीय सेना ने रविवार को पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) में आतंकवादी शिविरों को निशाना बनाया। सुरक्षाबलों ने तोपों से आतंकियों के ठिकाने पर जबरदस्त हमला बोला। इस दौरान पाकिस्तानी सेना और आतंकियों को भारी नुकसान पहुंचा है।

Posted By: Manish Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप