श्रीनगर (जेएनएन)। थलसेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने बुधवार को श्रीनगर में एक उच्च स्तरीय बैठक कर कश्मीर के आंतरिक और बाहरी सुरक्षा परिदृश्य का जायजा लेते हुए आतंकवाद व घुसपैठरोधी तंत्र की रणनीति तय की। जनरल रावत सुबह श्रीनगर पहुंचे।

इसके बाद उन्होंने बादामी बाग सैन्य छावनी स्थित चिनार कोर मुख्यालय में कश्मीर घाटी में तैनात सभी प्रमुख सैन्य कमांडरों के साथ बैठक की। लेफ्टिनेंट जनरल जेएस संधू ने हाल ही में कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ चलाए गए अभियानों और उत्तरी कश्मीर में एलओसी (नियंत्रण रेखा) पर सरहद पार से घुसपैठ के प्रयासों पर एक प्रजेंटेंशन देते हुए सेना द्वारा कश्मीर के भीतरी इलाकों से लेकर एलओसी पर अपनाई जा रही रणनीति पर रोशनी डाली।

जनरल रावत ने सैन्य कमांडरों की नेतृत्व कुशलता, कर्तव्यनिष्ठा और राष्ट्रभक्ति को सराहा। उन्होंने कहा कि अत्यंत चुनौतीपूर्ण हालात में वे जिस तरह से काम कर रहे हैं, वह किसी भी देश की सेना के लिए अनुकरणीय है। उन्होंने सभी सुरक्षा एजेंसियों व राज्य प्रशासन के साथ समन्वय बनाए रखने व जनहित कार्याें में भी योगदान के लिए सैन्य अधिकारियों को प्रेरित किया। उन्होंने कश्मीर में शांति, सुरक्षा और विश्वास का माहौल बनाए रखने के उनके प्रयासों को भी सराहा।

यह भी पढ़ें: VIDEO: सीमा पर दिखा जवानों का उत्साह, जलते दीपों से लिखा 'HAPPY DIWALI'

यह भी पढ़ें: सेनाप्रमुख पहुंचे कश्मीर, तय की आतंकरोधी तंत्र की रणनीति

Posted By: Kishor Joshi