हैदराबाद, एजेंसियां। निर्भया के बाद तेलंगाना की महिला पशु चिकित्सक की दुष्कर्म के बाद हत्या और शव को जलाने की घटना ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया है। इस घटना को लेकर पूरे देश में उबाल है। हैदराबाद के बाहरी इलाके में स्थित जिस शादनगर थाने में चारों दरिंदों को रखा गया था, शनिवार को वहां गुस्साई भीड़ ने धावा बोल दिया। हत्यारों को हवाले करने की मांग कर रही भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस को हल्का बल प्रयोग करना पड़ा। इसके बाद भी पुलिस आरोपितों को अदालत में पेश नहीं कर सकी, जिसके बाद एग्जीक्यूटिव मजिस्ट्रेट ने शादनगर थाने में अदालत लगाकर दरिंदों को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजने का आदेश दिया।

पुलिस ने बताया कि भीड़ ने सुबह ही थाने का घेराव कर लिया था, जो शाम तक जारी रहा। भीड़ ने पुलिस की गाड़ियों  पर पत्थर और चप्पलें भी फेंकी। भीड़ हत्यारों को बिना देर किए फांसी पर लटकाने की मांग कर रही थी। पुलिस ने लोगों को भरोसा दिलाया कि वो हत्यारों के लिए फांसी की सजा के लिए सौ फीसद कोशिश करेगी।

सामान्य हालात में हैं दरिंदे

शादनगर थाने से शाम के वक्त किसी तरह आरोपितों को जेल भेजा गया। इससे पहले उनकी मेडिकल जांच की गई। मेडिकल जांच करने वाले डॉक्टरों के मुताबिक इतना जघन्य कांड करने के बाद भी आरोपित पर कोई फर्क नहीं पड़ा है और वो पूरी तरह से सामान्य हैं।

आरोपितों का केस नहीं लड़ेगा कोई वकील

युवा महिला डॉक्टर को बर्बरता के साथ मार देने की घटना ने सबको स्तब्ध कर दिया है। वकीलों में भी भारी गुस्सा है। स्थानीय बार एसोसिएशन ने आरोपियों की तरफ से केस नहीं लड़ने का फैसला किया है।

राज्यपाल और केंद्रीय मंत्री पीड़ि‍त परिवार से मिले

तेलंगाना की राज्यपाल तमिलिसई सौंदरराजन और केंद्रीय गृह राज्यमंत्री जी. किशन रेड्डी ने डॉक्टर के परिजनों से मुलाकात की। घटना पर गहरा शोक जताते हुए दोनों ने उन्हें भरोसा दिलाया कि आरोपियों को जल्द से जल्द अधिकतम सजा दिलाई जाएगी।

पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की सिफारिश

राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्य श्यामला कुंदर ने भी पीडि़त परिजनों से मुलाकात की। उन्होंने कहा कि परिजनों के साथ खराब बर्ताव करने और थाना क्षेत्र को लेकर अहम समय बरबाद करने वाले पुलिसकर्मियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की सिफारिश की है। वहीं, नई दिल्ली में आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने कहा कि हत्यारों को फांसी की सजा से कम कुछ भी स्वीकार्य नहीं होगा।

युवा पशु चिकित्सक की बुधवार रात हुई थी हत्या

बता दें कि तेलंगाना के एक सरकारी पशु चिकित्सालय में सहायक चिकित्सक 27 वर्षीय युवती की बुधवार की रात सामूहिक दुष्कर्म के बाद हत्या कर दी गई थी। गुरुवार हैदारबाद-बेंगलुरु हाईवे पर उसका अधजला शव मिला था। पुलिस ने एक ट्रक चालक समेत चार लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस के मुताबिक इन्हीं चारों ने डॉक्टर की स्कूटी की हवा निकालकर उसे फंसाया था और टोल प्लाजा पर उसकी दुष्कर्म के बाद हत्या कर दी थी और बाद में वहां से 28 किलोमीटर दूर जाकर उसके शव को जलाकर फेंक दिया था।

 

Posted By: Arun Kumar Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस