वाशिंगटन, पीटीआई। ट्रम्प प्रशासन ने पाकिस्तान पर उसकी धरती से संचालित आतंकवादी समूहों के खिलाफ ठोस कार्रवाई करने के लिए दवाब डाला है। एक वरिष्ठ अमेरिकी राजनयिक ने बताया कि अमेरिका ने पाकिस्तान को आतंकियों समूहों के खिलाफ कार्रवाई करने की हिदायत दी है। हाल ही में पाकिस्तान से संचालित आतंकी समूह जैश-ए-मोहम्मद के एक आत्मघाती हमलावर के द्वारा 14 फरवरी को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में 40 सीआरपीएफ कर्मियों की हत्या के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव काफी बढ़ गया था।


अमेरिका के विदेश विभाग के वरिष्ठ अधिकारी ने शुक्रवार को कहा कि हमले के जवाब में भारत की आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई पर अमेरिका पूरी प्रतिबद्धता के साथ भारत के साथ खड़ा था।  अधिकारी ने कहा, "अब हम पाकिस्तान पर दबाव बना रहे हैं कि वह अपनी सरजमीं पर सक्रिय आतंकवादी समूहों पर ठोस और लगातार एक्शन ले और हम इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए अन्य देशों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं।" उन्होंने कहा, " अमेरिका ने सार्वजनिक रूप से भारत का साथ दिया था जबकि अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से आह्वान किया था कि वे भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव को कम करने में मदद करें।

पुलवामा हमले के बाद अमेरिका ने न केवल आत्मरक्षा के भारत के अधिकार का समर्थन किया है, बल्कि टेररिस्ट ग्रुपों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए पाकिस्तान पर निरंतर दबाव भी बना रहा है। इससे पहले दिन में राज्य के सचिव माइक पोम्पिओ ने फॉक्स न्यूज को बताया कि पाकिस्तान को आतंकवादियों को शरण देना बंद करना होगा। उन्होंने कहा कि हमने देखा कि भारत के साथ क्या हुआ।

पाकिस्तान को आतंकवादियों को शरण देने से रोकने की जरूरत है। पोम्पिओ ने बालाकोट में जैश ए मोहम्मद के आतंकवादी ट्रेनिंग कैंप में भारतीय लड़ाकू विमानों द्वारा हवाई हमले किए जाने के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

 

Posted By: Prateek Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप