नई दिल्ली, प्रेट्र। रोहिंग्या मुस्लिमों को शरण नहीं देने पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एके एंटनी ने बुधवार शाम नरेंद्र मोदी सरकार की आलोचना की। पूर्व रक्षा मंत्री दिल्ली में केरल यूनियन ऑफ वर्किग जर्नलिस्ट (केयूडब्ल्यूजे) के एक कार्यक्रम में बोल रहे थे। इस अवसर उन्होंने शरणार्थियों की रक्षा पर जोर देने वाली पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी का उदाहरण भी पेश किया। कहा, मोदी के विपरीत इंदिरा गांधी शरणार्थियों के साथ मजबूती से खड़ी थीं।

एंटनी ने केंद्र सरकार पर मदद और सुरक्षा चाहने वाले 40,000 रोहिंग्या मुस्लिमों को वापस करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा, 'जब 70 के दशक में एक करोड़ से अधिक शरणार्थी बांग्लादेश से भारत आए, तब पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने अमेरिका के शक्तिशाली सातवें बेड़े की अनदेखी करते हुए उनकी सुरक्षा करने पर जोर दिया। उन्होंने एक युद्ध का साहस दिखाया। उनके लिए एक नए राष्ट्र का निर्माण किया।'

एंटनी के मुताबिक, भारतीय बहुलवाद और अभिव्यक्ति की आजादी पर हमले हो रहे हैं। कहा, 'आपके खाने की पसंद की चीजों, फिल्में देखने या किताब लिखने की भी स्वतंत्रता पर भी हमले हो रहे हैं। जो मूल्य सदियों से मौजूद हैं, वे भी चुनौतियों का सामना कर रहे हैं। भारत में बहस और चर्चा की संस्कृति खत्म हो रही है।'

उन्होंने कहा, 'मौजूदा परिस्थिति में, कोई भी बिना डरे अपनी अभिव्यक्ति नहीं कर सकता है। यह भी अच्छा संकेत नहीं है कि भारतीय मीडिया भी अपनी राय व्यक्त करने की स्थिति में नहीं है।'

यह भी पढ़ें: रोहिंग्या महिलाओं के साथ यौन उत्पीड़न: एंजेलिना जोली ने की निंदा, करेंगी मुलाकात

Posted By: Manish Negi