मुंबई। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के नेता अजित पवार ने कहा कि हमारी पार्टी देवेंद्र फड़नवीस सरकार सरकार के पांच साल तक चलने की गारंटी नहीं दे सकती। पवार ने यह भी कहा कि अल्पमत की भाजपा सरकार को विश्वास मत हासिल करने के लिए मतदान कराना चाहिए था। वहीं, भाजपा दूसरे दलों के विधायकों को तोड़कर सरकार चलाने की योजना बना रही है।

अजित पवार ने कहा कि सरकार को समर्थन जारी रखना इस बात पर निर्भर करता है कि वह कितने अच्छे से काम करती है। हमने मुद्दों पर आधारित समर्थन दिया है और आम आदमी के लिए महत्वपूर्ण मुद्दों पर हम सरकार का साथ देते रहेंगे।

यह पूछने पर कि विपक्षी दलों द्वारा अविश्वास प्रस्ताव लाए जाने की स्थिति में एनसीपी राज्य में भाजपा सरकार के साथ जाएगी, उन्होंने कहा कि हमने सरकार को कामकाज के आधार पर समर्थन देने का निर्णय लिया है। इसलिए सरकार पर हमारी पैनी नजर रहेगी। सरकार में शामिल होने के सवाल पर पवार ने कहा कि राज्य में भाजपा के साथ सरकार में एनसीपी के शामिल होने की संभावना दूर-दूर तक नहीं है।

दरअसल, एनसीपी में भी दो धाराएं हैं। एक सरकार को समर्थन तो दूसरा समर्थन न करने के पक्ष में है। इसलिए पार्टी से दोनों तरह की आवाजें उठ रही हैं। अब यह देखना दिलचस्प होगा कि पार्टी का आगे क्या रुख होता है।

उधर, एनसीपी के अप्रत्यक्ष समर्थन के कारण भाजपा अपनी छवि को लेकर चिंतित है। वह इससे पीछा छुड़ाने के लिए बहुमत के जुगाड़ में जुट गई है। वह एनसीपी और कांग्रेस के विधायकों को इस्तीफा दिलाकर अपने टिकट पर उपचुनाव लड़ाने का मन बना रही है। इसके लिए वह वैसे विधायकों पर दांव लगाएगी जो अपने बल पर चुनाव जीतकर आए हैं।

पढ़ें : नेहरू पर कांग्रेस के कार्यक्रम में शामिल होगी राकांपा

पढ़ें : स्वच्छ भारत अभियान से भी जुड़े शरद पवार, लगाई झाड़ू

Posted By: Sanjay Bhardwaj