नई दिल्ली। एअर इंडिया के पायलटों की हड़ताल के बाद अब किंगफिशर के मुंबई के पायलटों ने भी गुरुवार रात से हड़ताल पर जाने का फैसला किया है। किंगफिशर के पायलटों ने पिछले कई महीने से वेतन नहीं मिलने के विरोध में सामूहिक चिकित्सा अवकाश पर जाने का फैसला किया है।

उधर, हड़ताल पर चल रहे एयर इंडिया के पायलटों ने गुरुवार को प्रबंधन को खत लिखकर बातचीत का प्रस्ताव दिया है। वहीं आज एयर इंडिया की दिल्ली में 15 और मुंबई में पांच उड़ानें रद्द की जा चुकी हैं।

एयर इंडिया के पायलटों की हड़ताल के चौथे दिन गुरुवार को नागर विमानन मंत्री अजित सिंह ने फिर से कहा कि सरकार पायलटों के साथ बातचीत करने के लिए तैयार है और उम्मीद है कि वे हाईकोर्ट के आदेश का अनुपालन करेंगे जिसमें इस हड़ताल को गैरकानूनी करार दिया गया है।

सिंह ने कहा कि हाईकोर्ट ने बेहद स्पष्ट आदेश दिया है। हम उम्मीद करते हैं कि पायलट कोर्ट के आदेश को मानेंगे। हर मुद्दे पर बातचीत हो सकती लेकिन उन्हें पहले हमारे पास आना चाहिए।

उन्होंने कहा कि विमानन कंपनी और यात्रियों का हित सर्वोपरि है। मंत्री ने कहा कि उन्हें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि एयर इंडिया अपनी विश्वसनीयता नहीं खोए।

अदालत के आदेश के बावजूद पायलटों ने विरोध जारी रखा हुआ है और कहा कि मांग पूरी होने तक उनका आंदोलन जारी रहेगा। इंडिया पायलट गिल्ड से संबद्ध एयर इंडिया के करीब 200 पायलटों ने मंगलवार को चिकित्सा अवकाश ले लिया जिसके कारण कल छह अंतरराष्ट्रीय उड़ानें और आज 20 उड़ानें रद्द करनी पड़ीं।

ये पायलट बोइंग 787 ड्रीमलाईनर उड़ाने के प्रशिक्षण कार्यक्रम के पुननिर्धारण और कैरियर में प्रोन्नति से जुड़े मामले को ले कर विरोध कर रहे हैं। सिंह ने कहा कि न्यायमूर्ति धर्माधिकारी समिति की रपट में आंदोलनकारी पायलटों द्वारा उठाए गए मुद्दों पर विचार कर लिया गया है। यह पूर्ववर्ती एयर इंडिया और इंडियन एयर लाइंस के कर्मचारियों को प्रोन्नति आदि से जुड़े मामलों में समान अवसर देने से जुड़ी है।

उधर, किंगफिशर के पायलटों के एक धड़े ने जनवरी का वेतन नौ मई से दिए जाने के आश्वासन से प्रबंधन के मुकरने के विरोध में आज रात से उड़ान न भरने का फैसला किया है। इस पहल से यात्रियों की मुश्किलें और बढ़ेगी जो एयर इंडिया के पायलटों की हड़ताल से पहले से ही त्रस्त हैं।

किंगफिशर के सूत्रों ने बताया कि प्रबंधन ने कहा कि वह जनवरी का बकाया वेतन नौ मई से देना शुरू करेगी। हालांकि कंपनी प्रबंधन अपने वायदे से मुकर गया है।

सूत्रों के मुताबिक किंगफिशर एयरलाइंस से अध्यक्ष विजय माल्या ने पांच मई को कर्मचारियों को जारी संदेश में उन्हें आश्वस्त किया था कि बुधवार से उनका जनवरी का वेतन दिया जाएगा। सूत्रों के मुताबिक प्रबंधन से मुकाबले का संकेत देते हुए किंगफिशर के दिल्ली के पायलटों के एक धड़े ने आज चिकित्सा अवकाश लिया और मुंबई के पायलटों ने आज राज से उड़ान न भरने का फैसला किया।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप