कोलकाता। सिंगुर मामले में हार को झेल रही मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा है कि उनकी लड़ाई रुकने वाली नहीं है। वह हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ अब सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाएंगी। उन्होंने कहा कि वह किसानों को उनकी जमीन वापस दिलाकर रहेंगी। गौरतलब है कि शुक्रवार को पश्चिम बंगाल सरकार के सिंगुर भूमि पुनर्वास और विकास अधिनियम को कलकत्ता हाईकोर्ट की ओर से असंवैधानिक करार दिया था।मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने दोहराया है कि सरकार किसानों की जमीनें उन्हें लौटाने को प्रतिबद्ध है।

टाटा ने इस मामले में कलकत्ता हाईकोर्ट के ही एक सदस्यीय बेंच के उस फैसले को चुनौती दी थी, जिसने पिछले वर्ष इस अधिनियम को सही ठहराया था।

मुख्यमंत्री ने कोलकाता में पत्रकारों से कहा कि सिंगुर के जो किसान अपनी जमीन नहीं देना चाहते उन्हें उनकी जमीन वापस मिलकर रहेगी। सरकार इसके लिए प्रतिबद्ध है। इस जमीन को तत्कालीन वामपंथी सरकार ने टाटा कंपनी को नैनो कार का संयंत्र बनाने के लिए लीज पर दिया था। लेकिन ममता बनर्जी के नेतृत्व में विरोध प्रदर्शन के बाद टाटा ने नैनो कार संयंत्र को गुजरात ले जाने का फैसला लिया था।

सत्ता में आने के बाद ममता सरकार ने पिछले वर्ष जून में एक अधिनियम के जरिए सिंगुर में टाटा के साथ हुए समझौते को रद्द करते हुए जमीन किसानों को वापस देने का प्रावधान किया था। लेकिन शुक्रवार को हाईकोर्ट ने इस अधिनियम को यह कहकर खारिज कर दिया कि इस अधिनियम के लिए राष्ट्रपति से अनुमति नहीं ली गई थी।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप