लखनऊ। हजारों लोगों को अपनी दवा से दुरुस्त करने वाला आगरा का एक डॉक्टर बीमारी से हार गया। डॉक्टर ने अपनी पुत्री को मौत की नींद सुलाने के बाद खुदकुशी की राह चुन ली। बेटी की तो मौत हो गई लेकिन चिकित्सक आगरा में भर्ती है, उसको वेंटीलेटर पर रखा गया है।

पढ़ें : सपा नेता ने किया आत्मदाह का प्रयास

बाल रोग विशेषज्ञ कैंसर के मर्ज से इस कदर हार गया कि उसने खुदकुशी की राह चुन ली। खुदकुशी का प्रयास करने से पहले अपनी लाड़ली मासूम बेटी की गोली मार कर हत्या की। फीरोजाबाद में प्राइवेट प्रैक्टिस करने वाले बाल रोग विशेषज्ञ डा.लाखन सिंह कैंसर से पीड़ित है। 15 माह से कैंसर से पीड़ित डा.लाखन सिंह को गाल का कैंसर है। आज सुबह चिकित्सक की पत्‍‌नी अर्चना घर पर नाश्ता तैयार कर रही थी। डा. लाखन सिंह छह वर्षीय बेटी श्रृद्धा के साथ में बैडरूम में थे। तभी फायर होने की आवाज आई। एक के बाद दूसरा फायर हुआ। परिवारवाले बैडरूम की तरफ दौड़े तो बेटी एवं चिकित्सक लहूलुहान अवस्था में थे तथा बैड पर चिकित्सक की रिवाल्वर पड़ी हुई थी। कमरे का नजारा देख चीख पुकार मच गई। आसपास रहने वाले एवं अन्य परिवारवाले पहुंच गए। दोनो को अस्पताल ले जाया गया, जहां पर चिकित्सकों ने छह वर्षीया मासूम को मृत घोषित कर दिया तथा चिकित्सक को आगरा रैफर कर दिया। कैंसर से पीड़ित चिकित्सक अवसादग्रस्त हो गए थे। बेटी को सर्वाधिक प्यार करने के कारण उसकी परवरिश की चिंता थी। डा. लाखन सिंह ने सुसाइड नोट में भी लिखा है मेरे बाद मेरी बेटी की परवरिश उस तरह से नहीं हो पाएगी, जिस तरह से मै चाहता हूं, लिहाजा मेरी बेटी की जिंदगी भी आज तक है। बताया जा रहा है डा.लाखन सिंह को आगरा में चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया है, लेकिन परिवारवालों की प्रार्थना पर वेंटीलेटर पर रखा गया है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस