जागरण संवाददाता, जयपुर। पाकिस्तान से आए एक कबूतर ने भारतीय जांच एजेंसियों को परेशान कर रखा है। दो दिन पहले यह कबूतर पाकिस्तान से उड़कर राजस्थान के श्रीगंगानगर जिले में 61 एफ गांव में आया था । कबूतर एक किसान लखविंद्र सिंह के खेत में बैठा था। किसान को कबूतर संदिग्ध नजर आया तो उसने पुलिस को सूचना दी । पुलिस के साथ बीएसएफ के अधिकारी मौके पर पहुंचे और कबूतर को अपने कब्जे में ले गए ।

वेटेनरी कॉलेज में होगी जांच

दो दिन तक कबूतर को श्रीकरणपुर पुलिस थाने में एक पिंजरे में रखा । बीएसएफ और पुलिस अधिकारियों ने अपने स्तर पर जांच करने के बाद अन्य जांच एजेंसियों को सूचना दी । मंगलवार को इस कबूतर को बीकानेर के वेटेनरी कॉलेज में ले जाया गया । अब आगे की जांच वेटेनरी कॉलेज में होगी । दिल्ली से भी एक्सपर्ट आएंगे ।

श्रीकरणपुर पुलिस थाने में हेड कांस्टेबल महेंद्र राम ने बताया कि कबूतर की पूंछ पर दाहिनी तरफ उर्दू भाषा में मुहर लगी हुई है। साथ ही दस अंकों में नंबर भी लिखे हुए है । कबूतर के पैरों में उर्दू में उस्ताद अख्तर और इरफान लिखा हुआ है । 5 अंक से शुरू होने वाली दस अंकों वाली संख्‍या को लेकर शक है कि यह किसी तरह का कोड हो सकता है, जो श्रीगंगा नगर या बीकानेर के आसपास पाकिस्‍तान के जासूसों के लिए एक संदेश हो सकता है। 

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र में 'कड़कनाथ' के नाम पर करोड़ों का घोटाला, तीन गिरफ्तार, जानिए पूरा मामला...

इंटेलिजेंस एजेंसी की टीम कर रही जांच

इंटेलिजेंस एजेंसी की टीम इसकी गहनता से जांच कर चुकी है । अब इसे आगे की जांच के लिए उसे बीकानेर वेटरनरी कॉलेज लाया गया है। जांच एजेंसियों को शक है कि कहीं कबूतर भारतीय सीमा क्षेत्रों की जासूसी के लिए तो नहीं भेजा गया । इससे पहले भी इस तरह के कबूतर पाकिस्तान की तरफ से भारतीय सीमा में आते रहे है । इनमें से कुछ के पैरों पर कैमरा लगा हुआ भी मिला है । पाकिस्‍तान राजस्‍थान की सीमा पर कभी बैलून तो कभी ड्रोन और कभी बाज या कबूतर के जरिए भारत की सामरिक तैयारियों के बारे में कोशिश करता रहता है, जिसको भारतीय जवान आम तौर पर नाकाम करते रहते हैं।    

इसे भी पढ़ें: पूरी तरह से शाकाहारी हैं पीएम मोदी, उनकी डाइट पर अमेरिका ने भी जताई थी हैरानी

इसे भी पढ़ें: Video: डूबते हुए शख्स को बचाने के लिए भागा हाथी का बच्चा, समझदारी देख लोग हो रहे 'इमोशनल'

Posted By: Arun Kumar Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप