अमृतसर (नितिन धीमान)। बिजली के भारी-भरकम बिल आमजन की धड़कनें बढ़ा रहे हैं। अब तो पावरकॉम ने हद ही कर दी, पांच वर्षो से बंद पड़े एक मकान का बिजली बिल 24.45 लाख रुपये भेज दिया गया। इस घर का कभी ताला ही नहीं खोला गया, बिजली का प्रयोग करना तो दूर की बात है। ऐसे में बिल देखकर इस डॉक्टर उपभोक्ता को जबरदस्त करंट लगा है।

बटाला रोड स्थित पवन नगर निवासी डॉ. राकेश शर्मा सिविल अस्पताल में अप्थेलेमिक अफसर हैं। उनका एक मकान कांगड़ा कॉलोनी स्थित रामनगर में भी है। पांच वर्ष पूर्व उन्होंने पवन नगर में नया मकान बनाया और सपरिवार वहीं चले गए। रामनगर स्थित घर में ताला लगा रहता था, इसलिए बिजली कर्मी अंदाजे से बिजली काटकर बाहर लगे बॉक्स में डाल दिया करते थे। डॉ. राकेश के अनुसार दो माह के अंतराल में 300 से 400 रुपये बिजली बिल आता रहा। वह समय पर भुगतान करते रहे। 4 अप्रैल को पावरकॉम से एक बिल प्राप्त हुआ। इस पर अंकित राशि 24.45 लाख रुपये देखकर उनके होश उड़ गए। बार-बार बिल को उलट-पलट कर देखा। इतनी बड़ी राशि देखकर मरीजों का इलाज करने वाले इस डॉक्टर की धड़कनें बढ़ गईं। उन्हें लगा शायद यह गलती से प्रिंट हो गया होगा, पर जब बिल पर अंकित रीडिंग देखी तो यह 3 लाख 52 हजार 618 लिखी गई थी, जबकि दिसंबर 2014 एवं जनवरी 2015 की रीडिंग 35099 दर्ज थी।

कहीं सचमुच ही बिजली का उपभोग तो नहीं हो रहा, इसकी जांच के लिए उन्होंने घर का ताला खोला और एक-एक कमरे की जांच की। सभी उपकरण बंद थे। पावरकॉम की ओर से लगाया गया मीटर सामान्य था। डॉ. राकेश ने बताया कि इस घर में बिजली का लोड 2.5 किलोवॉट है। इतनी बड़ी राशि का बिल आना उनकी समझ से परे है। विभाग के कर्मचारी ड्यूटी के प्रति लापरवाह हैं। बिना जांच-परख ही बिल काट रहे हैं। इसका खामियाजा लोगों को भुगतना पड़ रहा है। वह इस संदर्भ में पावरकॉम के चीफ इंजीनियर को लिखित शिकायत करेंगे।

ये भी पढ़ेंः अनोखी पहलः विदेश की नौकरी छोड़ गांव में खोला डेयरी फॉर्म

ये भी पढ़ेंः दैनिक जागरण को मिला इंद्रप्रस्थ गौरव अवार्ड

Posted By: anand raj