नई दिल्ली, आइएएनएस। जनता की परेशानी के नाम पर विपक्ष भले ही नोट बंदी को राजनीतिक मुद्दा बना रहा है, लेकिन ज्यादातर लोग इसे सही मान रहे हैं। इनशॉ‌र्ट्स और इप्सॉस द्वारा किए गए सर्वेक्षण के अनुसार, 82 फीसद लोग पांच सौ और हजार के नोट वापस लेने का समर्थन कर रहे हैं।

84 फीसद लोगों का मानना है कि सरकार काले धन पर रोक लगाने के लिए गंभीर है। नोट बंदी पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की घोषणा के तत्काल बाद आठ और नौ नवंबर को यह सर्वे किया गया था। 2,69,393 लोगों ने एप के जरिये इस सर्वेक्षण में भाग लिया।

ATM की लाइन से छुटकारा, जानें किस तरह आपके घर कैश लेकर पहुंचेगा बैंक

क्या आप सरकार के नोटबंदी के फैसले से सहमत हैं?

पढ़ें- कड़क चाय बनाने की आदत थी, इसीलिये निर्णय भी कड़क लेता हूं- मोदी

इससे पहले कल पीएम मोदी ने उत्तर प्रदेश के गाजीपुर में मजाकिया अंदाज में अपने नोटबंदी के फैसले को 'कड़क' फैसला बताते हुए कहा था कि जब मैं छोटा था तो गरीब लोग मुझसे कहते थे कि मोदी जी जरा कड़क चाय बनाना। मेरी कड़क चाय गरीबों को पसंद आती है लेकिन अमीर का मुंह बन जाता है।

छुट्टी के बाद आज खुले बैंक, ATM के बाहर भी लोगों की लंबी कतारें

नोटबंदीः रजाई लेकर रातभर बैंक के बाहर सोए लोग, ATM पर भी लंबी कतार

नोटबंदीः युवक की कल है शादी, दो भाइयों के साथ रात भर लाइन में लगा रहा

पीएम ने कहा था " मैंने कभी ऐसा कभी देखा था कि गंगा में लोग 500 और 1000 के नोट बहा रहे हैं। वहीं पहले लोग गंगा में सिक्के डालते थे। गंगा में पैसे बहाकर भी आपका पाप धुलने वाला नहीं है।"

पढ़ें- सावधान! किसी का पैसा अपने खाते में जमा किया तो बच नहीं पाअोगे

Posted By: kishor joshi