नई दिल्ली [जागरण स्पेशल]। चार महीने के मानसूनी सीजन का अभी ढाई महीना भी कायदे से नहीं बीता, पूरे देश में बारिश सामान्य से 10 फीसद कम रही, फिर भी सात राज्यों में बाढ़ की विभीषिका ने 774 लोगों की जान ले ली। गृह मंत्रालय के राष्ट्रीय आपदा बचाव केंद्र के अनुसार केरल में अब तक सर्वाधिक 187 मौतें हुई हैं। केंद्रीय जल आयोग के आंकड़ों के अनुसार पिछले 64 साल यानी 1953 से 2017 के बीच भारत में बाढ़ से कुल 1,07487 लोग मारे गए। इसमें 3,65,860 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ जो भारत के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) कातीन फीसद है।

बाढ़ की वजह

पूरे देश में अब तक 503.2 मिमी बारिश हुई है जो 562.3 मिमी सामान्य बारिश से 10 फीसद कम है। दो ही ऐसे राज्य हैं जहां अधिक बरसात दर्ज हुई है। 24 प्रदेशों में सामान्य बारिश हुई है। जबकि नौ में कम बारिश हुई है। ऐसे में सवाल उठता है कि बिना ज्यादा बारिश के कैसे बाढ़ आ रही है। इसके जवाब के मूल में हम इंसान ही आते हैं। बारिश के पानी के स्नोतों और उनके बहाव के रास्तों पर किए कब्जों ने बाढ़ की विभीषिका को जन्म दिया है।

बाढ़ का कहर

सात राज्यों में 774 लोग मारे गए। हजारों एकड़ फसलें तबाह हो गईं। करोड़ों के जानमाल का नुकसान देश को झेलना पड़ रहा है।

गंभीर समस्या

केंद्रीय जल आयोग द्वारा मार्च, 2018 में राज्यसभा में पेश किए गए आंकड़े बताते हैं कि 1953 से 2017 के बीच 64 साल के दौरान देश में भारी बरसात और बाढ़ से 1,07,487 लोग मारे गए। बाढ़ से दुनिया की हर पांच मौतों में एक भारत से शामिल होती है।

बड़ा नुकसान

इन 64 साल के दौरान बाढ़ से फसलों, घरों और अन्य जन सुविधाओं के नुकसान के रूप में देश को 3,65,860 करोड़ रुपये की चपत लगी है। यह हमारे सकल घरेलू उत्पाद का 3 फीसद है।

एनडीआरएफ की टीमें तैनात

हालात से निपटने के लिए असम में एनडीआरएफ की 15, उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल में आठ-आठ, गुजरात में सात, केरल में चार, महाराष्ट्र में चार और नगालैंड में एक टीम को तैनात किया गया है।

केरल में 8,000 करोड़ से ज्यादा का नुकसान

केरल में मूसलाधार बारिश के बाद आई बाढ़ से मरने वालों का आंकड़ा अब 39 हो गया है। हालांकि रविवार को दोबारा शुरू हुई बारिश के कारण राहत-बचाव कार्य में मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। बाढ़ की वजह से राज्य में 8 हजार करोड़ से ज्यादा का नुकसान हो चुका है। रविवार को केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा करने के बाद 100 करोड़ का राहत पैकेज देने का ऐलान किया है। 

Posted By: Sanjay Pokhriyal

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस