जागरण संवाददाता, जयपुर। जयपुर के डिग्गी पैलेस होटल में 21 से 25 जनवरी तक आयोजित होने वाले पांच दिवसीय जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल में 20 देशों के 25 से अधिक भाषाओं का प्रतिनिधित्व करने वाले 222 वक्ता शामिल होंगे।

फेस्टिवल में गोपनीयता, देशांतरण और आधुनिक दौर में जीवन जैसे विषयों पर चर्चा होगी। इसके अलावा दूसरों को सुने जाने की जरूरत-संवाद बनाम प्रलाप, रचनात्मक विचार-विमर्श के लिए सिकुड़ते परिदृश्यों पर पवन वर्मा, शशि थरुर, शाजिया इल्मी, सुधींद्र कुलकर्णी और सैयद सलमान चिश्ती चर्चा करेंगे। फेस्टिवल के सह निर्देशक विलियम डैलरिंपल व नीता गोखले ने बताया कि साहित्योत्सव में कहानीकार रस्किन बांड के अलावा इस वर्ष के मैन बुकर पुरस्कार विजेता मैलन जैम्स, लेखक सुधीर कक्कड़, अभिनेता और कॉमेडियन स्टीफन फ्राय, हिंदी पत्रकार उदय प्रकाश, आयरलैंड के लेखक कॉल्म तॉइबिन, उपन्यासकार मार्गेट एटवुड, फ्रांसीसी अर्थशास्त्री थॉमस पिकेटी, अमरीकी साहित्य के स्तंभ टेल्स ऑफ द सिटी के लेखक आर्मिस्टेड मॉपिन तथा लेखक बंत सिंह भी शामिल होंगे।

पढ़ेंः एक अंगूठी में 3827 हीरे जड़ जयपुर के जौहरियों ने बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड

देशांतरण के संदर्भ में क्रोनिकल्स ऑफ एग्जाइल पर एक सत्र का आयोजन होगा। मानवीय इतिहास के सबसे बड़े विभाजन पर सआदत हसन मंटो की कृतियों के माध्यम से चर्चा होगी। इस बार राज्य सरकार भी इस आयोजन में सहयोग करेगी। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे स्वयं इंतजाम में दिलचस्पी ले रही हैं।

Posted By: Sanjeev Tiwari