नई दिल्ली। Healthy Heart मौसम ने करवट ले ली है। उत्‍तर भारत में सर्दी का सितम लगभग खत्‍म हो गया है। दोपहर में गर्मी का अहसास होने लगा है। ऐसे में स्‍वास्‍थ्‍य का खास ध्‍यान रखने की आवश्‍यकता होती है। दरअसल, इस समय हमारा शरीर मौसम के बदलाव के साथ तालमेल बिठाने की कोशिश कर रहा होता है। ऐसे में अगर आपने कोई लापरवाही बरती, तो बीमार होना तय मानिए।

आज की व्यस्त जिंदगी में स्वास्थ्य का ख्याल रखना बहुत ही मुश्किल काम हो गया है। इंसान समाज में ऊपर उठने और पैसे कमाने की लालसा में इतना उलझ गया है कि उसे खुद के स्वास्थ्य पर ध्यान देने का ख्याल ही नहीं आता है। पैसे से इलाज तो संभव है, लेकिन आप बीमार न पड़ें यह केवल आपकी अच्छी आदतों से ही संभव है। यह अच्छी आदतें आपके शरीर को स्वस्थ रखेंगी, दिमाग को अधिक सक्रिय बनाएंगी और आपका दिल लंबे समय तक मजबूती से आपका साथ निभाएगा। डिप्रेशन, चिंता, तनाव ऐसी समस्याएं हैं, जिनसे हर इंसान परेशान है।

किसी भी इंसान के बीमार रहने का सबसे बड़ा कारण उसकी अपनी आदतें हैं। जी हां, ये हमारी आदतें ही हैं, जिन पर हमारा स्वास्थ्य निर्भर करता है। दिनचर्या से जुड़े कुछ नियम ऐसे हैं, जिनका पालन करने से इंसान हमेशा स्वस्थ रहता है। आइए आज हम आपको बताते हैं ऐसी ही कुछ आदतों के बारे में, जिनकी मदद से आप फिट भी महसूस करेंगे और आपका दिल भी खुश रहेगा। जानें क्‍या कहते है नई दिल्ली के सरोज सुपरस्पेशलिटी हॉस्पिटल के एचओडी (डायटेटिक्स) डॉ. निधि धवन

एक गिलास गुनगुना पानी : शरीर में एनर्जी लेवल बना रहे इसके लिए आप अपने दिन की शुरुआत गुनगुने पानी से करें। गुनगुना पानी पीने से शरीर का मेटाबॉलिक रेट बढ़ जाता है, जिसकी मदद से शरीर में पूरा दिन ताजगी बनी रहती है।

जॉगिंग, एक्सरसाइज व योग : रनिंग-जॉगिंग, एक्सरसाइज और योग स्वस्थ रहने के लिए बेहद जरूरी हैं, लेकिन इस भाग-दौड़ भरी जिंदगी में लोग इन चीजों को कम महत्व देने लगे हैं जिसके कारण बीमार लोगों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। हर रोज एक्सरसाइज व रनिंग करने से शरीर के विषाक्त तत्व बाहर निकलते हैं और शरीर फिट भी रहता है।

वॉकिंग पर जोर दें : यह जरूरी नहीं कि आप सुबह वॉक करेंगे तभी वॉक के फायदे मिलेंगे। वॉकिंग एक ऐसी एक्सरसाइज है जिसे दिन में किसी भी वक्त किया जा सकता है। यदि ऑफिस घर के पास है तो आप हर दिन चलकर ही ऑफिस जाएं। लिफ्ट की जगह ज्यादातर सीढ़ियों का इस्तेमाल करें। घर में भी चलते-फिरते रहें, सिर्फ आराम करते न रहें।

तय समय पर ब्रेकफास्ट, लंच और डिनर : आज के समय में लोगों के खाने का कोई एक समय नहीं रह गया है। अधिकतर लोग गलत समय पर खाते हैं जिसके कारण वे जल्दी-जल्दी बीमार पड़ते हैं। आप खाने का एक समय बना लें और हर दिन उसका पालन करें। नाश्ता सुबह 8-9 बजे के बीच करें, लंच 1 बजे तथा डिनर 7:30 बजे तक कर लें।

7-8 घंटों की नींद : कई रिसर्च अध्ययनों के अनुसार जो लोग 7 घंटों से कम नींद लेते हैं वह कई बीमारियों के शिकार हो जाते हैं। अच्छी और पर्याप्त नींद बढ़िया सेहत के लिए बहुत जरूरी है। जो लोग रात को 10 बजे सोने जाते हैं और 6 बजे उठते हैं वे पूरा दिन फ्रेश महसूस करते हैं।

आउटडोर गेम्स को दें समय : आज के समय में लोग बच्चों को मॉल में उपलब्ध गेमिंग एरिया में ले जाते हैं, जहां उनका मनोरंजन तो हो जाता है लेकिन शारीरिक व मानसिक विकास नहीं हो पाता है। यहां तक कि बड़े भी वीडियो गेम, लैपटॉप, मोबाइल, पीसी आदि पर इनडोर गेम्स ज्यादा खेलने लगे हैं। इनसे दूरी बनाएं और खुद को रोज कम से कम 40 मिनट तक सक्रिय आउटडोर एक्टिविटीज में व्यस्त करें।

3 लीटर पानी का सेवन : पानी सिर्फ प्यास को ही नहीं बुझाता है, बल्कि यह कई बीमारियों का रामबाण इलाज है। जो लोग हर दिन कम से कम दो-ढाई लीटर पानी का सेवन करते हैं वे कम बीमार पड़ते हैं। ऐसे लोग पेट की समस्या से जल्दी परेशान नहीं होते हैं, उनकी त्वचा चमकदार रहती है और उन्हें मुहांसों की समस्या भी नहीं होती है। इसलिए स्वस्थ रहने के लिए हर दिन 3 लीटर पानी जरूर पिएं। कई लोगों को अधिक पानी पीने से हाजमे में गड़बड़ी की शिकायत होती है। इसके लिए चिकित्सक की सलाह लें।

थोड़ा वक्त खुद के लिए निकालें : आधुनिक जिंदगी में लोग जिम्मेदारियों के चलते खुद को समय ही नहीं दे पाते हैं। इसके कारण वे तनाव और चिंता का शिकार बनते हैं। हर दिन आधा घंटा अकेले गुजारने से इंसान को खुद को समझने का मौका मिलता है। यही नहीं लोग अकेले में चीजों को लेकर सोच-विचार कर सकते हैं, जिससे उन्हें सही फैसला लेने में मदद मिलती है। इसलिए लैपटॉप और मोबाइल फोन को स्विच ऑफ कर दें और थोड़ा वक्त खुद के साथ गुजारें।

परिवार के साथ वक्त गुजारें : दिन में एक घंटा परिवार को देना कितनी बड़ी बात है? मानसिक स्वास्थ्य पाने के लिए आप इतना तो कर ही सकते हैं। जब आप परिवार के साथ वक्त बिताते हैं तो आप उनसे अपने दिल की बातें साझा कर पाते हैं और उनकी बात भी समझ पाते हैं। इस एक प्रयास से न सिर्फ घर में खुशियां बढ़ती हैं बल्कि परिवार के किसी भी व्यक्ति को डिप्रेशन की समस्या भी नहीं होगी। इसलिए हर दिन एक घंटा अपने परिवार के पास बैठें। सप्ताह में एक दिन पारिवारिक आउटडोर एक्टिविटीज के लिए तय करें।

शरीर के पोश्चर को सही रखें : ऑफिस का काम हो या घर का काम हो, हम हमेशा याद नहीं रख पाते हैं कि हमें अपने शरीर के पोश्चर को सही रखने के लिए सीधा उठना-बैठना चाहिए। पोश्चर को सीधा न रखने से अक्सर पीठ दर्द, कंधों का दर्द, गर्दन का दर्द, कमर दर्द आदि समस्याएं खड़ी होती हैं।

सोडा का सेवन बंद कर दें : सोडा न केवल आपके दांतों में सड़न पैदा करता है, बल्कि इसमें अत्याधिक मात्रा में मौजूद रिफाइंड शुगर, कैलोरी की मात्रा बढ़ाकर मोटापा बढ़ाने का काम करती है। अगर आप कैलोरी कम करने के लालच में डाइट सोडा लेना पसंद करते हैं, तो आपको जानने की जरूरत है कि यह किडनी की कार्यक्षमता को कम करता है।

स्वभाव में बदलाव लाएं : हंसने-हंसाने को स्वभाव बनाएं व खेलकूद में हिस्सा लें। शरीर व घर की साफसफाई रुचि से करें। हफ्ते में एक दिन उपवास रखें, साइकिल चलाएं, खाने से पहले हाथ धोएं, शराब से दूर रहें, सोने से पहले दांतों की सफाई कर लें तो स्वस्थ जीवन और मजबूत हृदय हासिल करना आसान हो जाता है। एक बार इन्हें आजमा कर तो देखें, यकीन मानिए आपका दिल आपको दुआएं देगा।

धूमपान न करें : धूमपान असमय मृत्यु के प्रमुख कारणों में से एक है। जो लोग रोज धूमपान करते हैं वे कई बीमारियों से परेशान रहते हैं। इसके विषैले धुएं से न सिर्फ धूमपान करने वाला इंसान प्रभावित होता है, बल्कि आसपास के लोग भी प्रभावित होते हैं। सिगरेट में मौजूद विषैले तत्वों के कारण त्वचा में झुर्रियां होने लगती हैं और इंसान समय से पहले बूढ़ा दिखने लगता है।

ग्रीन टी या ब्लैक कॉफी : ग्रीन टी में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स आपके शरीर के विषाक्त तत्वों को बाहर करते हैं और शरीर में अतिरिक्त वसा को भी कम करते हैं। ग्रीन टी न सिर्फ वजन कम करने में सहायक है बल्कि इससे सिरदर्द की समस्या से भी छुटकारा मिलता है। फीकी ब्लैक कॉफी भी ली जा सकती है। इसमें कैलोरी न के बराबर होती है जबकि कैल्शियम और पोटेशियम की भरपूर मात्रा मौजूद होती है।

हरी सब्जियों-मौसमी फलों का सेवन : फल और सब्जियां खाने से एक ओर जहां कैंसर से बचाव होता है, वहीं दिल से जुड़ी बीमारियों का खतरा भी कम होता है। यह पेट को भी साफ-स्वस्थ रखते हैं। इसके साथ ही कई अध्ययनों से मालूम पड़ा है कि हरी सब्जियां और फल खाने वाले लोग सब्जियां और फल नहीं खाने वालों की तुलना में ज्यादा खुश रहते है।

यह भी पढ़ें:-

सर्दियों के इस बदलते मौसम में सांस के रोगी अपनी सेहत का ऐसे रखें ख्‍याल, पढ़े एक्सपर्ट की राय

इम्‍यूनिटी बढ़ाने और डायबिटीज घटाने के लिए लें 'टहलने का टॉनिक', कम से कम चलें इतने कदम

कंप्यूटर के सामने ज्यादा देर बैठकर काम करना हो सकता है घातक, ये होते हैं लक्षण

कहीं आपका बच्चा भी तो रात में गीला नहीं करता बिस्तर, ऐसे करें इलाज; पढ़े एक्सपर्ट की राय

लिवर, गैस और गुर्दे की मजबूती के लिए कारगर है 'कागासन', पढ़े एक्सपर्ट की राय

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस