सतना, जेएनएन। मध्य प्रदेश के सतना रेलवे स्टेशन में एक बार फिर रेलवे की बड़ी लापरवाही सामने आई है। यहां प्लेटफार्म नंबर एक में स्थित लिफ्ट में 15 यात्री 45 मिनट तक फंसे रहे जिसके कारण उनकी सांसें ऊपर नीचे होती रही। स्थिति यह बनी की अन्य यात्रियों की सूचना के बाद भी कोई तकनीकी कर्मचारी मौके पर तुरंत नहीं पहुंचा। रेलवे के अन्य कर्मचारियों को जब सूचना मिली तो वे लिफ्ट खोलने पहुंचे लेकिन जब बात नहीं बनी तो तकनीकी कर्मचारी को बुलाया गया और बड़ी मशक्कत से लिफ्ट का दरवाजा खोला गया।

बिजली गुल होने से यात्रियों को हुई घुटन

घटना रात लगभग 7:30 बजे की है जब यात्री लिफ्ट में सवार होकर एक प्लेटफार्म से दूसरे प्लेटफार्म के लिए रवाना हुए उसी दौरान लिफ्ट खराब हो गई और यात्री उसी में फंसे रहे। शोर-शराबा सुन के कुछ यात्री लिफ्ट की ओर देखें जिसके बाद रेलवे कर्मचारियों को इसकी सूचना दी गई लेकिन 45 मिनट तक रेलवे कर्मचारी लिफ्ट का दरवाजा खोलते रहे और लिफ्ट का दरवाजा खोलने में बड़ी मशक्कत का सामना करना पड़ा।

8:15 बजे के लगभग जब लिफ्ट का दरवाजा किसी तरह खोला गया तब जाकर यात्रियों की सांस में सांस आई और वे रेलवे की कार्यप्रणाली को कोसते हुए बाहर निकले। जिस समय यात्री लिफ्ट में फंसे थे उस समय लिफ्ट में बिजली भी गुल हो गई थी जिससे लाइट और पंखा भी बंद हो गया। जिसके कारण घुटन से यात्री लिफ्ट में छटपटाते रहे।

सामने आई रेलवे की लापरवाही

इस घटना में रेलवे की लापरवाही भी सामने आई है। जिनके द्वारा समय-समय पर रेलवे की लिफ्टों का मेंटेनेंस नहीं किया जाना प्रमुख कारण सामने आया है। पहले भी इस तरह की लिफ्ट बंद होने की घटना कई बार हो चुकी है लेकिन रेलवे के अधिकारी इस ओर ध्यान नहीं देते जिसके कारण आज यह बड़ी घटना हो गई। गनीमत रही किसी यात्री की जान पर नहीं बनी वरना बड़ा हादसा हो सकता था।

Edited By: Shashank_Mishra