मेदिनीनगर, मुर्तजा आमिर। प्रतिभा स्कूली या विश्वविद्यालयी डिग्रियों की मोहताज नहीं होती। इस बात को झारखंड के पलामू जिले के एक छात्र ने एक बार फिर साबित कर दिखाया है। बगैर किसी तकनीकी डिग्री और कोर्स के अपने जुनून और जिज्ञासा के दम पर 12वीं पास छात्र आदित्य आज इंटरनेट के मास्टर बन बैठे हैं। निमिया स्थित बैंक कॉलोनी निवासी 18 वर्षीय आदित्य सिंह ने इंजीनियरिंग, सॉफ्टवेयर या आइटी की कोई विधिवत डिग्री तो नहीं ली है, लेकिन कम उम्र में ही वह एक सफल वेब डेवलपर के रूप में अपनी पहचान कायम कर चुके हैं। हाल ही में आदित्य ने सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक की तर्ज पर एक नई वेबसाइट - वीलुकअप्स - बनाई है। एक महीने में ही इस वेबसाइट पर सैकड़ों लोग अपना अकाउंट खोल चुके हैं।

आदित्य के अनुसार बचपन से ही कंप्यूटर के प्रति उसका रुझान रहा है। उसने 2015 में मैट्रिक की परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद से ही अपनी पहचान बनाने की दिशा में कोशिश शुरू कर दी थी। घर में मौजूद कंप्यूटर का सहारा लिया और कंप्यूटर के कुछ ऑनलाइन कोर्स घर बैठे ही कर लिए। वेब डेवलपमेंट और वेब डिजाइन की बारीकियां भी ऑनलाइन ही सीख-समझ लीं। बाद में प्रायोगिक तौर पर पहल शुरू की। परिणाम अब सबके सामने है।

आदित्य बताते हैं कि कई साल से उनके मन में फेसबुक जैसा एक स्वदेशी वेबसाइट बनाने की इच्छा थी, जिसके माध्यम से लोग अपने विचार साझा कर सकें। इस तरह के उल्लेखनीय कार्य कर वह दुनियाभर में अपना और देश का नाम रौशन करना चाहता है। अब वीलुकअप्स बनाकर वह काफी खुश है, इसे लगातार डेवलप कर नए-नए फीचर शामिल करने का काम निरंतर चल रहा है। इस वेबसाइट का गूगल प्ले स्टोर में एंड्रायड वर्जन एप भी उपलब्ध है, ताकि इसे डाउनलोड कर मोबाइल पर भी सुविधाजनक तौर पर वेबसाइट का इस्तेमाल किया जा सके।

पिछले साल ही 12वीं की परीक्षा की है पास

आदित्य ने पिछले साल ही स्थानीय हेरिटेज स्कूल से 74 फीसद अंकों के साथ 12वीं (विज्ञान) की परीक्षा पास की है। फिलहाल वह इंजीनियरिंग में दाखिले के लिए प्रयासरत हैं। आदित्य के पिता रामेश्वर सिंह एक स्थानीय स्कूल में शिक्षक हैं। बेटे की सफलता से वह काफी उत्साहित व खुश हैं।

वेबसाइट में हैं कई तरह के फीचर्स

कंप्यूटर व मोबाइल में ब्राउजर के माध्यम से वीलुकअप्स डॉट कॉम सर्च कर आप भी इस वेबसाइट में अपना अकाउंट बना सकते हैं। इस सोशल नेटवर्क में मैसेजिंग, पोस्ट के अलावा ऑनलाइन म्यूजिक, ऑनलाइन वीडियो व न्यूज भी देख सकते हैं। इसमें कई गेम्स भी मौजूद हैं।

यह भी पढ़ें: ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी ने 'आधार' को चुना 2017 का हिंदी शब्द

Posted By: Arti Yadav