वरण शर्मा, ग्वालियर। जब चारों ओर कोरोना संक्रमण का हाहाकार मचा है। इंटरनेट मीडिया से लेकर तमाम जगह अस्पतालों में लापरवाही और लूट की चर्चाएं हैं, ठीक इसी वक्त में ग्वालियर से ऐसी खबर आई है, जिसके कारण इस बुरे वक्त में भी मानवता मुस्कुरा उठी है। खबर कुछ यूं है कि ग्वालियर के 12 निजी अस्पतालों ने प्रशासन के साथ मिलकर कोरोना संक्रमितों को निशुल्क इलाज और दवाई देने का संकल्प लिया है। इनमें से छह अस्पतालों ने तो मुफ्त इलाज शुरू भी कर दिया है, जबकि छह अन्य प्रशासन की अनुमति और व्यवस्था पूरी होते ही काम शुरू करेंगे।

कोरोना मरीजों की मदद के लिए निजी अस्पतालों ने की पहल

इनके प्रबंधकों ने जिला प्रशासन और कोरोना मरीजों की मदद के लिए अपने अस्पतालों में सरकारी कोविड केयर सेंटर की तरह कई सेवाएं निशुल्क देने की पहल की है। वे अपना इंफ्रास्ट्रक्चर, स्टाफ, डॉक्टर और संसाधन प्रशासन को संचालन के लिए दे रहे हैं।

ग्वालियर में प्रतिदिन 600 से 700 नए कोरोना मरीज

बता दें कि ग्वालियर में प्रतिदिन 600 से 700 नए कोरोना मरीज सामने आ रहे हैं। ऐसे में अस्पतालों में बिस्तर व इलाज देने की चुनौती से जूझ रही सरकारी स्वास्थ्य सेवाओं के लिए यह एक बड़ा सहारा साबित होगा।

इन निजी अस्पतालों ने शुरू की निशुल्क सेवाएं

-आरएस धाकरे एमपीसीटी अस्पताल (मयूर मार्केट थाटीपुर)

- आइडिया अस्पताल (बरेठा टोल प्लाजा, भिंड रोड)

- सर्वधर्म अस्पताल (चितौरा रोड, बड़ागांव मुरार)

- रामनाथ श्रीनारायण अस्पताल (सिथौली, झांसी रोड)

- सोफिया अस्पताल (महलगांव सिटी सेंटर)

- आइटीएम अस्पताल (सिथौली रोड हाइवे)।

इन अस्पतालों ने प्रशासन की देखरेख में अपने बिस्तर, भवन, संसाधन, स्टाफ व डॉक्टरों के साथ सेवाएं शुरू कर दी हैं। जिला कार्यक्रम अधिकारी राजीव सिंह ने बताया कि बाकी छह अस्पतालों में भी कोविड गाइडलाइन के हिसाब से इंतजाम कर मरीजों के लिए सेवाएं शुरू कर दी जाएंगी।

ये छह निजी अस्पताल जल्द देंगे मुफ्त सेवाएं

- रामकृष्ण अस्पताल

- श्रीराम अस्पताल

- एसकेएस अस्पताल

- वीआइएसएम अस्पताल

- एसआर मेमोरियल अस्पताल

- टाइम अस्पताल।

सौ बिस्तर, ऑक्सीजन व 35 नर्सिंग स्टाफ उपलब्ध

कोरोना संक्रमण बड़ी आपदा है, ऐसे में सभी को सहयोग का भाव रखना जरूरी है। प्रशासन को भी मदद की जरूरत है इसलिए हमने अस्पताल में 100 बेड कोविड केयर सेंटर के लिए दे दिए हैं। इसमें 35 नर्सिंग स्टाफ भी प्रशासन को दिया है। हमारा खुद का नर्सिग कॉलेज है तो स्टाफ की कमी नहीं है। 10 ऑक्सीजन बेड भी शामिल हैं। सेंट्रल ऑक्सीजन लाइन की सुविधा भी यहां है- डॉ. अजय यादव, डायरेक्टर, आइडिया अस्पताल, ग्वालियर।

तीन डॉक्टर, 16 नर्सिंग स्टाफ, 30 बेड दिए

इस समय कोरोना का इलाज मिलना सबसे जरूरी है। इसी मकसद से अपने अस्पताल के बेड और स्टाफ कोविड केयर सेंटर के लिए दे दिए हैं। जिला प्रशासन को अपने अस्पताल के तीन डॉक्टर, 16 नर्सिंग स्टाफ और तीस बिस्तर दे दिए हैं। एक वेंटिलेटर भी प्रशासन को दिया है। अस्पताल में ऑक्सीजन की भी पूरी व्यवस्था है- डॉ. मनीष श्रीवास्तव, आरएस धाकरे अस्पताल, ग्वालियर।

12 निजी अस्पतालों का सराहनीय कदम

आपदा की स्थिति में शहर के 12 निजी अस्पतालों ने सराहनीय कदम उठाया है। उन्होंने खुद मदद के लिए हाथ बढ़ाकर अपने अस्पतालों में निशुल्क कोविड केयर सेंटर बनवाए हैं। मिल-जुलकर और सभी के सहयोग से ही हम कोरोना को हरा सकेंगे- कौशलेंद्र विक्रम सिंह, कलेक्टर, ग्वालियर।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप