रायपुर, राज्य ब्यूरो। दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित तब्लीगी मरकज में आयोजित धार्मिक कार्यक्रम में शामिल होने छत्तीसगढ़ से भी 101 लोग गए थे। सरकार का दावा है कि सभी की पहचान हो चुकी है। इनमें से 32 को क्वारंटाइन और 69 को होम आइसोलेशन में रखा गया है। इसके अलावा भी तब्लीगी जमात के कुछ लोग छत्तीसगढ़ भी आए हैं। अब तक बिलासपुर, भिलाई, बालोद और अंबिकापुर जिलों में इनके आने की सूचना की पुष्टि हुई है।

कनाडा का एक नागरिक बिलासपुर में होटल में रुका था, पुलिस कर रही तलाश

कनाडा का एक नागरिक बिलासपुर शहर के एक होटल में भी रुका था। उसकी तलाश की जा रही है। भिलाई में आए आठ लोगों की पहचान हो चुकी है।

बिलासपुर की जामा मस्जिद में नौ विदेशी मिले

बिलासपुर की जामा मस्जिद में नौ विदेशी मिले हैं जो खाड़ी देश से आए थे। सभी को आइसोलेशन में रखा गया है। उनके सैंपल जांच के लिए एकत्र किया गया है।

भिलाई की नूरी मस्जिद में रुके थे पश्चिम बंगाल के चार दंपती

छत्तीसगढ़ सरकार के अनुसार बालोद से 15, बिलासपुर से एक और अंबिकापुर से पांच लोगों के बारे में जानकारी मिली है। भिलाई में चार दंपतियों की पहचान की गई है। तकरीर में शामिल होने के बाद सभी आठ लोग शहर के फरीद नगर की नूरी मस्जिद में रुके हुए थे। सभी पश्चिम बंगाल के मिदनापुर के रहने वाले हैं। बालोद में निजामुद्दीन से लौटे लोगों की तलाश के लिए पुलिस ने मस्जिदों में संपर्क किया। पुलिस के समझाने के बाद 15 लोग खुद ही सामने आए और अपने स्वास्थ्य की जांच कराई।

निजामुद्दीन की मरकज में शामिल हुए तब्लीगी जमात के लोगों की तलाश के लिए सभी जिलों के एसपी को निर्देशित किया गया था। यह भी निर्देश दिए गए थे कि कार्यक्रम में शामिल होकर लौटे सभी लोगों को स्वास्थ्य विभाग की मदद से क्वारंटाइन किया जाए -डीएम अवस्थी, डीजीपी छत्तीसगढ़

Posted By: Bhupendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस