नई दिल्ली, जेएनएन। संप्रति पूरे विश्व में कोरोना वायरस के संक्रमण से उत्पन्न गंभीर स्थिति स्वाभाविक रूप से मीडिया में हेडलाइन बनी हुई है। इस संदर्भ में और अन्यथा भी वायरस या बैक्टीरिया से संक्रमित होकर बीमार पड़ने वाले लोगों की बढ़ती संख्या के मद्देनजर इम्यून सिस्टम को दुरुस्त बनाए रखने पर सभी चिकित्सा तथा स्वास्थ्य विशेषज्ञ एकमत हैं। ऐसे भी आंकड़े साफ तौर पर बताते हैं कि देश में सभी उम्र के लोग पहले की तुलना में अधिक संख्या में बीमार पड़ रहे हैं और वह भी छोटे-छोटे अंतराल में।आखिर ऐसा क्यों हो रहा है? मेरा स्पष्ट मत है कि इसका एक बड़ा कारण आम तौर पर लोगों का इम्यून सिस्टम कमजोर होना है।

इम्यून सिस्टम हमारे शरीर के सेल्स (कोशिकाओं),टिश्यूज (ऊतकों) तथा ऑर्गन्स (अंगों) का एक कॉम्प्लेक्स नेटवर्क है जो आपस में मिलकर कीटाणुओं और रोगाणुओं से शरीर की रक्षा करता है। इस सिस्टम के कारण हमारे शरीर को कीटाणुओं-रोगाणुओं की पहचान करने में मदद मिलती है और फिर अपने नेटवर्क के पार्टनर्स के साथ मिलकर उन्हें नष्ट करना संभव होता है जिससे हमारा शरीर स्वस्थ रह पाता है। हमारा इम्यून सिस्टम अपने नेटवर्क के सारे हेल्दी सेल्स और टिश्यूज को पहचानता है और रोगाणुओं के बाहरी आक्रमण या संक्रमण के वक्त उन्हें प्रोटेक्ट भी करता है।

दूसरे शब्दों में इम्यून सिस्टम का सीधा मतलब हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता से है, जो हमारे शरीर को ऐसा सुरक्षा कवच प्रदान करती है, जिससे शरीर जल्दी किसी साधारण बीमारी की चपेट में नहीं आता और अगर हम किसी रोग से कारण-अकारण ग्रसित भी हो जाते हैं तो उससे निजात पाने में भी शीघ्र सफल भी होते हैं। इसके विपरीत, यदि हमारा इम्यून सिस्टम कमजोर हो जाता है तो हमारे रोग के संक्रमण की चपेट में आने की संभावना बढ़ जाती है। कमजोर इम्यून सिस्टम के कारण हमें जल्दी थकान का अनुभव होता है, घबराहट और बेचैनी होती है, पेट खराब रहने, गाहे- बगाहे सर्दी-जुकाम से पीड़ित होने की शिकायत रहती है।

यह सिस्टम लगातार कमजोर होने से वायरस और बैक्टीरिया जनित कई रोगों के अलावा भी हमारे कई बड़े रोगों से ग्रसित होने की आशंका भी बढ़ जाती है। तो फिर इम्यून सिस्टम को स्ट्रॉन्ग बनाए रखने के लिए क्या-क्या करना चाहिए? आइए, थोड़ा विस्तार से जानते हैं। यहां जो उपाय बताए जा रहे हैं अगर हम उन पर लॉकडाउन के इन दिनों में नियमित रूप से निष्ठापूर्वक अमल करें तो निश्चित ही ज्यादा लाभ के हकदार बनेंगे। इससे एक अच्छी जीवनशैली भी बनेगी, जिसे अपनाए रखने से आप हमेशा स्वस्थ रह पाएंगे। जानें क्‍या कहते है रांची के मोटिवेशनल स्पीकर एवं वेलनेस कंसल्टेंट मिलन सिन्हा।

1- रोज दिन की अच्छी शुरुआत हो। पॉजिटिव सोच के साथ दिन की शुरुआत करें। सुबह आंख खुलने के बाद बिछावन पर बैठे-बैठे ही प्रकाश और ऊर्जा के देवता सूर्य को नमन करें और यह महसूस करने की कोशिश करें कि आप अंदर से प्रकाशित और ऊर्जायुक्त हो रहे हैं। तत्पश्चात अपने माता-पिता-गुरु-इष्टदेव का स्मरण कर उन्हें नमन करें। आप अच्छा महसूस करेंगे और आपका शरीर तदनुसार प्रतिक्रिया करेगा।

2- आराम से बैठकर धीरे-धीरे आधा लीटर गुनगुना पानी पिएं। गुनगुने पानी में आधा नींबू का रस, एक चम्मच शहद और थोड़ा अदरक का रस डालकर पिएं तो और ज्यादा लाभ मिलेगा। सुबह शरीर को अच्छी तरह हाइड्रेट करने से शरीर से विषैली और अवांछित चीजों को निकालने में मदद मिलती है और इससे इम्यून सिस्टम अच्छा बना रहता है। अपनी जरूरत के हिसाब से समय-समय पर दिनभर पानी का सेवन करें। जहां तक संभव हो ठंडा पानी या अन्य कृत्रिम पेय से बचें।

3- सुबह उठने के बाद कोशिश करें कि आधे घंटे के अंदर आप शौच आदि से निवृत हो जाएं। जितना शीघ्र आपके अंदर से वेस्ट क्लियर होगा, आपके इम्यून सिस्टम के लिए उतना अच्छा है।

4- अब तुलसी के चार-पांच पत्तों के साथ एकदो दाना काली मिर्च और लौंग को पान की तरह खूब चबाकर और आनंद लेकर खाएं। नीम या गिलोय के पत्तों या रस या बाजार में उपलब्ध वटी यानी टैबलेट का सेवन भी कर सकते हैं। आइडिया केवल यह है कि आपके इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाए रखने की मजबूत शुरुआत रोज सुबह-सुबह ही हो जाए।

5- योगाभ्यास, व्यायाम, घर की छत पर वॉकिंग आदि में से आप जो कर सकते हैं, अगला 20-30 मिनट उसे करने में लगाएं। निश्चित रूप से नियमित योगाभ्यास सबसे अच्छा विकल्प है इम्यून सिस्टम को स्ट्रॉन्ग बनाने और रखने में। योगाभ्यास में पहले आसन, फिर प्राणायाम और अंत में ध्यान करें। आसन में सूर्य नमस्कार के पांच राउंड से शुरू कर सकते हैं या फिर पवनमुक्तासन श्रेणी के तीन-चार आसन- ताड़ासन, कटि-चक्रासन, भुजंगासन और शशकासन अपनी सुविधा और जरूरत के हिसाब से करें। इसे और आसान भाषा में समझाएं तो सिर से लेकर पांव की अंगुलियों तक शरीर के हर जोड़ को आराम से चला लें। इससे आपका शरीर लचीला हो जाएगा।

प्राणायाम यानी ब्रीदिंग एक्सरसाइज में कम-से-कम अनुलोमविलोम, कपालभाति और भ्रामरी कर ही लें। इसके बाद कम-से-कम पांच मिनट ध्यान करें। योगाभ्यास से शरीर में ऑक्सीजन का स्तर बढ़ता है, रक्त प्रवाह में गुणात्मक सुधार होता है और शरीर के सारे सेल्स एक्टिव हो जाते हैं। नतीजतन इम्यून सिस्टम बहुत स्ट्रॉन्ग बनता है। तेज गति से टहलने और शरीर के सारे अंगों को सक्रिय करने के लिए किए जाने वाले आसान व्यायाम से भी अच्छा लाभ मिलता है।

6- दिनभर के हमारे खान-पान का हमारे शरीर के रखरखाव में बहुत बड़ा योगदान है और नतीजतन रोग प्रतिरोधक क्षमता को बेहतर बनाए रखने में भी। खान-पान में स्वास्थ्य को ध्यान में रखना बहुत अनिवार्य है, स्वाद भी अच्छा हो तो उत्तम। अपने खान-पान में शरीर की मूलभूत आवश्यकताओं -प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, फैट, मिनरल्स और विटामिन की अपेक्षित मात्रा मिल जाए, इसके प्रति सचेत रहें। जब भी खाना खाएं, केवल खाने पर फोकस करें और आराम से खूब चबाकर तथा स्वाद लेकर खाएं। आपका खान-पान जितना संतुलित होगा उतना लाभ मिलेगा।

7- अपने भोजन में अन्न, मौसमी सब्जी एवं फल के अलावा नियमित रूप से नींबू, अदरक, लहसुन, प्याज, आंवला, लौंग, इलायची, दालचीनी, काली मिर्च, हल्दी, जीरा, सौंफ, अजवाइन, मूली, खीरा, गाजर, टमाटर, हरी पत्तेदार सब्जियां, पपीता, केला, नारियल, ड्राई फ्रूट्स आदि को शामिल करें। हां, इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाए रखने में विटामिन-सी की अहम भूमिका मानी गई है, अत: नींबू, आंवला, संतरा, मौसंबी, आम, अंगूर जैसे फल अच्छा लाभ देते हैं। एक बात और, सुबह उठने के दो घंटे के अंदर नाश्ता जरूर कर लें।

8- रोगाणुओं के आक्रमण या उनके संक्रमण से बचाव के लिए शरीर की अंदरूनी सफाई जितनी जरूरी है उतनी ही बाहरी और आस-पास की सफाई। रोज स्नान करें और साफ-सुथरे कपड़े पहनें। घर की सफाई का विशेष ध्यान रखें। बाहर से घर आने पर जूते-चप्पल निकालकर बाहर रखें और फिर हाथ-पांव- चेहरा साबुन-पानी से बढ़िया से धोएं। इससे इम्यून सिस्टम हेल्दी रखना आसान होगा।

9- इम्यून सिस्टम पर हंसी का बहुत सकारात्मक असर होता है। इससे शरीर में रक्त संचार में सुधार के साथ-साथ ऑक्सीजन की उपलब्धता बढ़ती है। ऐसे भी हंसी को बेस्ट मेडिसिन के रूप में डॉक्टर-वैज्ञानिक सबने स्वीकार किया है।

10- रात में 7-8 घंटे की अच्छी नींद का बहुत ही अच्छा असर दिनभर के क्रियाकलाप पर दिखाई पड़ता है। नींद के दौरान हमारे शरीर को रिलैक्स करने और अंदरूनी रिपेयरिंग का मौका मिलता है। यही कारण है कि अच्छी नींद से हमारा इम्यून सिस्टम मजबूत होता है। अंत में, उन बातों का जिक्र करना जरूरी है जिनके कारण हमारा इम्यून सिस्टम कमजोर होता है। संक्षेप में कहें तो धूमपान, या किसी भी प्रकार का नशा तथा जंक फूड, फ्रोजेन, पैकेज्ड तथा प्रीजर्व्ड फूड का नियमित सेवन, अस्वच्छ या गंदा रहन-सहन, नकारात्मक सोच और अनावश्यक स्ट्रेस आदि इसके बड़े कारण हैं। अनियमित खान-पान एवं गलत दिनचर्या भी इसमें अपनी अहम भूमिका निभाती है।

Posted By: Sanjay Pokhriyal

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस