राज्य ब्यूरो, जम्मू। आतंकवाद को शह देने के साथ पाकिस्तान ने अब राज्य में नशीला पदार्थों की तस्करी का खेल भी शुरू कर दिया है। शुक्रवार को पाकिस्तान की एक ऐसी ही साजिश को नाकाम बनाते हुए सीमा सुरक्षा बल व नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने जम्मू में आरएसपुरा अंतरराष्ट्रीय सीमा से दस करोड़ मूल्य की हेरोइन बरामद की।
दो किलोग्राम हेरोइन की खेप को सीमा पर तारबंदी के पार भारतीय क्षेत्र में एक पेड़ के नीचे छिपाया गया था।

यह खेप भारतीय क्षेत्र में सक्रिय उन तस्करों तक पहुंचाई जानी थी, जो इसे कब्जे में लेने के लिए मौके की ताक में थे। पाकिस्तान के इस मंसूबे की भनक लगने के बाद शुक्रवार को 127 बटालियन के जवानों ने सीसुब की जी ब्रांच व एनसीबी के अधिकारियों की देखदेख में दोपहर साढ़े बारह बजे से एक घंटे का अभियान चलाकर प्लास्टिक में लपेट कर छिपाई गई हेरोइन की दो थैलियां बरामद कर लीं। तारबंदी से डेढ़ सौ मीटर आगे जिस स्थान पर पेड़ के नीचे हेरोइन छिपाई गई थी, वहां झाडिय़ों के साथ एक नाला भी है, जिसकी आड़ में वहां पहुंचना संभव है। इसी बीच बरामद मादक पदार्थ की जांच करवाने के बाद पुष्टि हुई कि हेरोइन की अंतरराष्ट्रीय बाजार में कीमत दस करोड़ है।

वर्ष 2016 में जम्मू क्षेत्र में सीमा पार से मादक पदार्थ भेजने की यह पहली कोशिश है। सीमा सुरक्षा बल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने जागरण को बताया कि खेती के दिनों में तारबंदी के पार किसानों का आना जाना शुरू हो जाता है। उनकी आड़ में कई बार तस्कर भी मौका तलाशते हैं। इस समय सीमा पर खेती संबंधी गतिविधियां बंद हैं। ऐसे में सीमा पार तस्करों से इस तरह से मादक पदार्थ छिपाए थे कि उन्हें बरसात के दिनों में इस ओर सक्रिय लोगों तक पहुंचाया जा सके।

Posted By: Gunateet Ojha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस