सामाजिक संतुलन के लिए एमएसएमई जरूरी : मंत्री

जागरण संवाददाता, राउरकेला : राज्य के ऊर्जा, उद्योग व एमएसएमई मंत्री प्रताप केसरी देव ने सुंदरगढ़ जिले की सामाजिक संरचना का जिक्र करते हुए कहा कि सामाजिक संतुलन के लिए सरकार गंभीर है। माइक्रो, स्माल एंड मीडियम इंटरप्राइज (एमएसएमई) यानी सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम अपार संभावनाएं बताते हुए उद्यमियों से आगे आने का आह्वान किया। कहा बड़ी इंडस्ट्री के साथ सामाजिक संतुलन के लिए एमएसएमई होना बहुत जरूरी है, खासकर सुंदरगढ़ जैसे जिले के लिए। मंत्री देव अपने सम्मान व स्वागत में चैंबर भवन में आयोजित समारोह को संबोधित कर रहे थे।

मंत्री देव ने कहा कि सरकार औद्योगिक विकास को लेकर गंभीर है। जनहित को ध्यान में रखते हुए औद्योगिक विकास के लिए कामन एजेंडे पर काम करें। इडको डायरेक्टर उद्योग के लिए जमीन व टाटा पावर से पावर से जुड़ी समस्याओं के समाधान करने को कहा। चैंबर से औद्योगिक क्रांति के लिए कंक्रीट प्लान देने को कहा। उद्योग व व्यवसाय में नई तकनीक को अपनाएं। फूड प्रोसेसिंग इंडस्ट्री पर ध्यान देने पर जोर दिया और कहा कि फूड प्रोसेसिंग इंडस्ट्री में अपार संभावनाएं है। इसमें 100 प्रतिशत रिटर्न के साथ यह उद्योग रोजगार भी देता है। पावर व इंफ्रास्ट्रक्चर की कमी ओड़िशा में नहीं है। यहां अन्य राज्यों की तुलना में उद्यमी रिस्क नहीं ले रहे हैं। यही कारण है कि ओड़िशा में लोग उद्योग के विकास के लिए बैंक से लोन लेने में पीछे हैं। कहा कि राउरकेला के लिए नया ग्रिड का काम चल रहा है। अगले एक दो महीने में ग्रिड का काम पूरा हो जाने से पावर की कोई कमी नहीं होगी। चैंबर अध्यक्ष शुभ पटनायक ने सम्मान समारोह की अध्यक्षता की और चैंबर की ओर से औद्योगिक विकास से जुड़ी समस्याओं के समाधान की मंत्री से मदद की अपील की। रघुनाथपाली विधायक सुब्रत तराई, एडीएम डा. शुभंकर महापात्र, महासचिव सुनील कयाल, उपाध्यक्ष नरेश आर्या, राजेश अग्रवाल, टाटा पावर के सीईओ गजानन एस काले मंचासीन रह कर अपने अपने विचार रखे। मंच का संचालन राजेश अग्रवाल ने किया। जबकि पूर्व अध्यक्ष विनोद शर्मा ने मंत्री के समक्ष उद्योग से जुड़ी समस्याओं को सिलसिलेवार तरीके से रखते हुए समाधान की मांग की।

Edited By: Jagran