मेरठ, जागरण संवाददाता। meerut coronavirus news कोरोना संक्रमण बढ़ने को लेकर प्रदेश सरकार फिर माक ड्रिल कराएगी। 22 अगस्त को लखनऊ की टीम मेरठ के सभी सरकारी स्वास्थ्य केंद्रों पर माक ड्रिल कर कोरोना मैनेजमेंट की तैयारियों को परखेगी। वहीं शुक्रवार को मेरठ में कोरोना के 52 मरीज मिले। इसके साथ ही एक्टिव केस 280 हो गए हैं। सीएमओ डा. अखिलेश मोहन ने बताया कि 750 सैंपलों में 52 पाजिटिव मिले।

दो सौ बेडों का अस्पताल

मेडिकल कालेज के कोविड वार्ड से लेकर पीडियाट्रिक वार्ड तक इलाज से जुड़ी तैयारियों की पड़ताल होगी, वहीं सीएचसी पर भी अलर्ट रखा गया है। मंडलीय सर्विलांस अधिकारी डा. अशोक तालियान ने बताया कि मेडिकल कालेज में दो सौ बेडों का अस्पताल है, जबकि बच्चों की कोविड आइसीयू में सौ बेड हैं। 50 बेड आइसीयू एवं आक्सीजनयुक्त हैं।

आक्सीजन प्लांटों की जांच

पड़ताल में डमी मरीज बनाकर यह देखा जाएगा कि उसे स्ट्रेचर पर लेकर बेड पर लिटाने के बीच कितना समय लगा, और आक्सीजन कितनी देर में उपलब्ध करा दी गई। सीएमओ डा. अखिलेश मोहन ने बताया कि डब्ल्यूएचओ की टीम की निगरानी में दो दिनी ड्रिल में सरधना, मवाना, दौराला, हस्तिनापुर एवं भूड़बराल सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों को जांचा जाएगा। जिले में 27 आक्सीजन प्लांटों को चेक किया जाएगा। स्वास्थ्य विभाग ने अस्पतालों को नोटिस भेजकर रोजाना दो घंटे प्लांट चलाने के लिए कह दिया है।

कोरोना के 52 मरीज मिले, एक्टिव केस 280

कोरोना संक्रमण चिंता का विषय बन रहा है। सीएमओ डा. अखिलेश मोहन ने बताया कि 750 सैंपलों में 52 पाजिटिव मिले। संक्रमण की दर 6.33 प्रतिशत पाई गई जो पिछले कई महीनों में सबसे ज्यादा है। 26 मरीज विभिन्न अस्पतालों में इलाज ले रहे हैं। हालांकि किसी की तबीयत गंभीर नहीं है। होम आइसोलेशन में 254 मरीज इलाज ले रहे हैं। एक्टिव केस 280 है। शुक्रवार को 68 मरीज डिस्चार्ज किए गए। सीएमओ ने बताया कि मास्क जरूर पहनें। भीड़भाड़ में न जाएं। बुखार, खांसी, थकान एवं सांस फूलने के लक्षण हों तो तत्काल कोविड जांच करानी चाहिए। 

Edited By: Prem Dutt Bhatt