मनुष्य को हर पल अच्छा सोचना चाहिए : भाव भूषण

मेरठ, जेएनएन। हस्तिनापुर के दिगंबर जैन प्राचीन बड़ा मंदिर के त्रिमूर्ति जिनालय में चल रहे शांतिनाथ विधान के 15वें दिन भगवान का अभिषेक व शांतिधारा की गई। मंगलवार को विधान में 75 परिवारों ने भाग लिया। विधान के दौरान धर्मसभा में मुनि भाव भूषण महाराज ने प्रवचन करते हुए कहा कि जीवन में कुछ भी निश्चित नहीं है। इसलिए मनुष्य को जीवन में हर पल अच्छा सोचना चाहिए और अच्छे कार्य करने चाहिए। संसार में कोई भी शरणभूत नहीं है। संसार नश्वर है। इस नश्वरता में कोई सार नहीं है। भगवान महावीर का संदेश हमें इस संसार सागर से पार ले जाने के लिए है। हमें भगवान की भक्ति में लीन होकर अपनी आत्मा को ऊंचा उठाना हैं। संसार में ऐसी कोई ताकत नहीं, जो हमें मौत के मुंह से बचा ले। भगवान महावीर के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ। विधान की सभी मांगलिक क्रियाएं विधानाचार्य आशीष जैन शास्त्री ने संपन्न कराई। शांतिधारा मुकेश जैन‚ मनोरमा जैन‚ अमित जैन‚ मनीष जैन आदि ने की। सांय के समय भगवान की महाआरती की गई व रात्रि में सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए गए। विधान में अध्यक्ष जीवेंद्र जैन,‚ महामंत्री मुकेश जैन‚, कोषाध्यक्ष राजेंद्र जैन,‚ महाप्रबंधक मुकेश कुमार जैन‚, अशोक कुमार जैन‚ व उमेश जैन आदि रहे।

Edited By: Jagran