राज्य ब्यूरो, कोलकाता: बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा है कि वह अपनी दिल्ली यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री से अलग से नहीं मिलेंगी। मुख्यमंत्री ने सोमवार दोपहर राष्ट्रीय राजधानी के लिए रवाना होने से पहले कोलकाता में नेताजी सुभाष चंद्र बोस अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर संवाददाताओं को जानकारी देते हुए बताया कि सोमवार से शुरू होने वाली मेरी नई दिल्ली और राजस्थान की चार दिवसीय यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से अलग से मिलने का कोई मौका नहीं है।

वह सोमवार देर शाम राष्ट्रपति भवन में मुख्यमंत्रियों की बैठक में शामिल हुईं, जिसे प्रधानमंत्री ने अगले साल जी20 शिखर सम्मेलन की भारत की मेजबानी पर चर्चा के लिए बुलाया था। मुख्यमंत्री ने कहा कि वहां मैं प्रधानमंत्री के साथ कुछ बातचीत करूंगी। लेकिन इस बार प्रधानमंत्री से अलग से मिलने की संभावना नहीं है। उन्होंने इस बात का भी ब्योरा नहीं दिया कि उनके दौरे के दौरान अन्य दलों के नेताओं से मुलाकात की कोई संभावना है या नहीं। ममता बनर्जी ने पहले ही स्पष्ट कर दिया था कि वह राष्ट्रपति भवन में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री के रूप में नहीं बल्कि अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में बैठक में भाग लेंगी।

मंगलवार को वह दो प्रतिष्ठित धार्मिक स्थलों, अजमेर शरीफ और पुष्कर झील का दौरा करने के लिए राजस्थान के लिए रवाना होने वाली हैं। नई दिल्ली रवाना होने से पहले मुख्यमंत्री ने कहा कि जब मैं रेल मंत्री थी, मैंने इन दोनों धार्मिक स्थलों को रेलवे से जोड़ने की व्यवस्था की थी। मेरी लंबे समय से इन दोनों जगहों पर जाने की इच्छा थी, जिसे मैं इस बार पूरा करूंगी। बुधवार को नई दिल्ली लौटने के बाद, ममता बनर्जी के नई दिल्ली में अनुभवी पार्टी सांसद सौगत राय के आधिकारिक आवास पर अपनी सभी पार्टी- लोकसभा और राज्यसभा सदस्यों से मिलने की उम्मीद है। बैठक में सदन के आगामी शीतकालीन सत्र के दौरान संसद के भीतर पार्टी की रणनीति को अंतिम रूप देने की उम्मीद है। बैठक में पार्टी के सभी लोकसभा और राज्यसभा सदस्यों को अनिवार्य रूप से उपस्थित रहने को कहा गया है।

Edited By: Amit Singh

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट