बाढ़ के पानी से महानदी और हीराकुद बांध हुआ लबालब

संवाद सूत्र, संबलपुर : हीराकुद बांध के ऊपरी मुहाने पर जारी वर्षा और महानदी समेत अन्य शाखा नदियों का पानी बांध में प्रवेश करने से जलभंडार लबालब है और जलस्तर भी बढ़कर 626.91 फुट पर पहुंच गया है। उधर, कटक, सोनपुर, बऊद, नयागढ़, जगतसिंहपुर समेत तटीय जिलों में बाढ़ नियंत्रण के लिए रविवार के अपरान्ह 3 बजे से हीराकुद बांध के 8 गेटों को बंद किया गया था, लेकिन हीराकुद बांध के बढ़ते जलस्तर को देखते हुए मंगलवार के अपरान्ह के बाद 14 गेटों को खोल दिया गया है। ऐसे में वर्तमान बांध के 40 स्लुइस गेट से महानदी में बाढ़ का पानी छोड़ा जा रहा है।

हीराकुद बांध नियंत्रण कक्ष प्राप्त जानकारी के अनुसार, मंगलवार की शाम छह बजे तक बांध का जलस्तर 626.91 फुट रिकार्ड किया गया। इस दौरान बांध के जलभंडार में प्रति सेकेंड 6 लाख 91 हजार 950 घनफुट पानी प्रवेश कर रहा था, जबकि 36 स्लुइस गेट से प्रति सेकेंड 6 लाख 10 हजार 003 घनफुट पानी महानदी में छोड़ा जा रहा था। बताया गया है कि बीते चौबीस घंटे के दौरान बांध के ऊपरी मुहाने पर केवल 16.11 मिमी और निचले मुहाने पर 06.45 मिमी वर्षा रिकॉर्ड की गई, बावजूद इसके बांध के निचले मुहाने पर शाखा नदियों का पानी महानदी में प्रवाहित होने से बऊद, नयागढ़, कटक, जगतसिंहपुर जिला में बाढ़ का खतरा बढ़ा है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार, सोमवार की शाम छह बजे तक बांध का जलस्तर 622.39 फुट था और इस दौरान बांध के जलभंडार में प्रति सेकेंड 9 लाख 21 हजार 131 घनफुट पानी प्रवेश कर रहा था, जबकि बांध के 26 स्लुइस गेट से प्रति सेकेंड 4 लाख 51 हजार 655 घनफुट पानी महानदी में छोड़ा जा रहा था। रविवार, 14 अगस्त की शाम छह बजे तक बांध का जलस्तर 617.33 फुट था। इस दौरान जलभंडार में प्रति सेकेंड 7 लाख 35 हजार 187 घनफुट पानी प्रवेश कर रहा था और 34 स्लुइस गेट से प्रति सेकेंड 5 लाख 63 हजार 573 घनफुट पानी महानदी में छोड़ा जा रहा था।

Edited By: Jagran