लखनऊ, जागरण संवाददाता। बंगला बाजार में स्वतंत्रता दिवस पर तिरंगा यात्रा के दौरान दो पक्षों में हुई मारपीट, बवाल और पथराव के मामले में दो दारोगाओं की लापरवाही प्रकाश में आई है। मामले को संज्ञान में लेते हुए डीसीपी पूर्वी प्राची सिंह ने दोनों दारोगाओं को लाइन हाजिर कर दिया है।

लाइन हाजिर किए गए दारोगाओं में किला चौकी प्रभारी रंजीत पाठक और बंगला बाजार चौकी प्रभारी ऋषि केश राय शामिल हैं। दोनों को चौकी से हटाकर गुरुवार को पुलिस लाइन भेज दिया गया है। डीसीपी पूर्वी प्राची सिंह के मुताबिक, सोमवार को स्वतंत्रता दिवस के मौके पर तेलीबाग के रहने वाले आयुष यादव ने तिरंगा यात्रा निकाली थी।

तिरंगा यात्रा बंगला बाजार के रास्ते किला चौराहे पर पहुंची। आयुष का कहना था कि चंद्रिका देवी मंदिर के सामने मो. फैजान कुछ साथियों के साथ खड़ा था। फैजान और उसके साथियों ने गाली-गलौज के बाद पथराव शुरू कर दिया। लोहे के राड और डंडों से हमला किया। अवैध असलहे लहराए थे। घटना से अफरा-तफरी मच गई थी। कई लोग घायल हुए थे।

इसके बाद कुछ लोगों ने बवाल और पथराव का वीडियो इंटरनेट मीडिया पर वायरल कर दिया था। जिसका अधिकारियों ने तत्काल संज्ञान लिया। आयुष की तहरीर पर भूरी उर्फ सौरभ, आर्यन रावत, वरुन गुर्जर, विशाल यादव, अभिषेक, रोहन रंगबाज, दिलीप पाठक समेत 10 नामजद समेत 24 अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था।

मामले में पुलिस ने बुधवार को दिलीप कुमार, अंचल सोनकर, बाबादीन और रोहित सिंह उर्फ बच्चा को गिरफ्तार कर लिया था। डीसीपी के मुताबिक, मामले में दोनों दारोगाओं की लापरवाही भी सामने आयी है। इस लिए दोनों को लाइन हाजिर किया गया है।

मामले की जांच की जा रही है। जो भी तथ्य और सामने आएंगे उसके आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी। इंस्पेक्टर आशियाना धर्मेंद्र यादव ने बताया कि अन्य आरोपितों की तलाश में दबिश दी जा रही है। जल्द ही उन्हें भी गिरफ्तार किया जाएगा।

Edited By: Vrinda Srivastava