नई दिल्ली, एजुकेशन डेस्क। देश भर के सभी सरकारी बैंकों को मिलाकर कुल 41,177 पद फिलहाल खाली हैं। हालांकि, सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में कुल स्वीकृत 8,05,986 पदों में से 1 दिसंबर 2021 तक 95 फीसदी भरे हुए हैं, जबकि शेष 5 फीसदी अभी रिक्त हैं। सरकारी बैंकों में रिक्त ये 41 हजार से अधिक पद सभी 12 पब्लिक सेक्टर बैंकों में हैं। इन बैंकों में भारतीय स्टेट बैंक, पंजाब नेशनल बैंक, पंजाब एवं सिंध बैंक, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ बड़ौदा, बैंक ऑफ महाराष्ट्र, कैनरा बैंक, इंडियन बैंक, यूको बैंक, बैंक ऑफ इंडिया, इंडियन ओवरसीज बैंक और यूनियन बैंक ऑफ इंडिया शामिल हैं। यह जानकारी केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सोमवार, 13 दिसंबर 2021 को लोक सभा में एक प्रश्न का उत्तर देते हुए साझा की।

एसबीआइ मे सर्वाधिक 8544 रिक्तियां

समाचार एजेंसी पीटीआइ के अपडेट के अनुसार, वित्त मंत्री ने अपने लिखित उत्तर में बताया कि सरकारी बैंकों में कुल रिक्त पदों में सर्वाधिक संख्या एसबीआइ की है, जहां 8,544 पद खाली हैं। वित्त मंत्री ने कहा कि इन रिक्त पदों में से 3,423 अधिकारी ग्रेड के हैं जबकि शेष 5121 पद क्लैरिकल कैडर के हैं।

एसबीआइ के बाद, दूसरी सबसे बड़ी संख्या पंजाब नेशनल बैंक की है जहां 6743 पद खाली हैं। इसके बाद, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया में रिक्त 6295 पदों, इंडियन ओवरसीज बैंक के रिक्त 5112 पदों और बैंक ऑफ इंडिया के रिक्त 4848 पदों का अवरोही क्रम है।

वित्तमंत्री ने लोक सभा में अपने उत्तर में कहा कि सरकार को इस बात की जानकारी है कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों स्वीकृत कर्मचारियों की संख्या में भारी कमी है। इसके चलते तैनात कर्मचारी अपनी ड्यूटी उचित तरीके नहीं कर पा रहे हैं।

पिछले छह वर्षों में सिर्फ 1 पद हुआ समाप्त

इसके अतिरिक्त वित्त मंत्री ने लोक सभा में जानकारी दी कि पिछले छह वर्षों के दौरान सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में, सिर्फ पंजाब एण्ड सिंध बैंक के एक पद को छोड़कर, कोई अन्य पद या रिक्ति को समाप्त नहीं किया गया है।

Edited By: Rishi Sonwal