रांची, राज्य ब्यूरो। Jharkhand News झारखंड सरकार ड्यूटी से लगातार गायब रहनेवाले दो चिकित्सकों को बर्खास्त करने की तैयारी कर रही है। इनमें एक चिकित्सक पर कोरोना काल में ड्यूटी से गायब रहकर प्राइवेट प्रैक्टिस करने का भी आरोप है। इसकी पुष्टि जांच में भी हो चूकी है। दोनों चिकित्सकों से दूसरी बार स्पष्टीकरण मांगा गया है।

गढ़वा के डाक्टर अशोक कुमार व गिरिडीद के डाक्टर रजनी रूपम पर आरोप

गढ़वा के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र रंका में पदस्थापित डा. अशोक कुमार के ऊपर सिर्फ आवेदन देकर लंबे समय तक छुट्टी पर रहने तथा कोरोना काल में ड्यूटी नहीं कर सदर अस्पताल से महज आधा किलोमीटर की दूरी पर प्राइवेट नर्सिंग होम में प्राइवेट प्रैक्टिस करने का आरोप है। जांच में इसकी पुष्टि भी हुई है। डॉ अशोक ने उपाधीक्षक को सिर्फ आवेदन देकर लंबे समय तक छुट्टी पर चले गए। जबकि उपाधीक्षक ने कोरोना का हवाला देते हुए अर्जी खारिज कर दी थी। वहीं, गिरिडीह के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र देवरी में पदस्थापित डा. रजनी रूपम के ऊपर भी कर्तव्य स्थल से अनुपस्थित रहने का आरोप है।

दूसरी बार मांगा गया स्पष्टीकरण, संतोषप्रद जवाब नहीं देने पर होंगे बर्खास्त

विभागीय जांच पदाधिकारी की रिपोर्ट के आधार पर निर्धारित प्रक्रिया के तहत दोनों चिकित्सकों से दूसरी बार स्पष्टीकरण मांगा गया है। चिकित्सकों द्वारा संतोषप्रद जवाब नहीं देने पर दोनों को बर्खास्त करने की कार्रवाई की जाएगी। इससे पहले इस पर कैबिनेट की स्वीकृति ली जाएगी।

Edited By: Sanjay Kumar