गोरखपुर, जागरण संवाददाता। गोरखपुर में इंटरसिटी एक्सप्रेस (Intercity Express) की चपेट में आए तीसरे युवक आकाश उर्फ अंबू की भी मौत हो गई। हादसे में उसका दायां पैर कट गया था। पोस्टमार्टम के बाद तीनों साथियों का शव घर पहुंचते ही कोहराम मच गया। देर शाम राजघाट पर उनका दाह संस्कार हुआ। उधर, घरवालों का रो-रो कर बुरा हाल हो गया है। राखी बांधने आई बहनों की चित्कार सुन हर किसी का कलेजा फटा जा रहा है। बहनें बार-बार बदहवास हो जा रही हैं। आसपास के लोगों की भी आंखे नम हैं। 

यह है मामला

शाहपुर थाना क्षेत्र के उत्तरी जटेपुर गोलू उर्फ पीर मोहम्मद, गोरखनाथ के दिग्विजय नगर कालोनी निवासी अजय उर्फ भानू व गगहा के डेमुसा गांव के मूल निवासी हड़हवा फाटक के पास रहने वाले आकाश उर्फ अंबू मित्र थे। तीनों आटो चलाकर परिवार की जीविका चलाते थे। गुरुवार की रात में 10 बजे धर्मशाला बाजार में आटो खड़ी कर तीनों पैदल ही घर जा रहे थे। रात 10.30 बजे तरंग क्रासिंग पर रेलवे लाइन पार करते समय लखनऊ से आ रही इंटरसिटी एक्सप्रेस की चपेट में आने से पीर मोहम्मद व अजय की मौके पर ही मौत हो गई थी। वहीं अगले दिन सुबह ही आकाश उर्फ अंबू ने भी दम तोड़ दिया।

राखी बांधने आई बहनों का रो-रोकर बुरा हाल

पांच भाई- बहनों में अजय सबसे छोटा था। उसकी शादी नहीं हुई थी। पिता की मौत के बाद मां घर में किराने का दुकान चलाती हैं। गुरुवार की सुबह 10 बजे वह आटो लेकर घर से निकला था। मौत की खबर मिलते ही राखी बांधने आई बहनों का रो-रोकर बुरा हाल है। आकाश उर्फ अंबू की हड़हवा फाटक में ससुराल थी। परिवार में पत्नी व दो बच्चे हैं। स्वजन ने बताया कि शाम सात बजे गोलू का फोन आने पर वह घर से निकला था। गोलू भी आटो चलाता था।

Edited By: Pragati Chand