जागरण संवाददाता, संगरूर

शहर की सुंदर बस्ती, राम नगर इंक्लेव व अजीत नगर के स्लम एरिया में डायरिया के मामले सामने आने के बाद वीरवार को सेहत विभाग की टीमों द्वारा निरीक्षण किया गया। टीम में एसडीएम संगरूर नवरीत कौर सेखों, तहसीलदार संदीप कुमार, सीवरेज बोर्ड के अधिकारी व सेहत अधिकारी शामिल थे।

सिविल सर्जन डा. परमिदर कौर ने बताया कि सेहत विभाग की टीमों द्वारा घरों में जाकर जांच की गई ताकि रोग के फैलाव को समय पर रोका जा सके। इस समय स्थिति काबू में है। सेहत विभाग की टीमें पूरी सतर्क हैं। जिला सेहत अफसर डा. कृपाल सिंह ने बताया कि सरकारी अस्पताल संगरूर में पांच मरीज इलाज अधीन हैं। उनका फ्री इलाज जारी है। टीम द्वारा उक्त बस्तियों के निवासियों को जागरूक किया जा रहा है। इसके अलावा विभाग की ओर से डायरिया से प्रभावित परिवारों को दवा के अलावा पानी की क्लोरीनेशन की जा रही है, ओआरएस के एंटी बायोटिक पैकेट बांटे गए हैं, ताकि बीमारी से शरीर को होने वाले नुकसान से बचाव हो सके।

--------------------- कांगड़ा ने पूछा मरीजों का हालचाल

उधर, भारतीय आंबेडकर मिशन द्वारा शहर की सुंदर बस्ती मातू राम की कोठी के समीप सीवरेज बंद पड़ने से फैली गंदगी व बीमार हुए लोगों की समस्या का मुद्दा उठाने के बाद सेहत विभाग हरकत में आ गया है। आंबेडकर मिशन के राष्ट्रीय प्रधान दर्शन सिंह कांगड़ा ने लोगों के हक में आवाज बुलंद की थी। जरूरी टेस्ट करके पीड़ितों को मोबाइल वैन के जरिए सरकारी अस्पताल संगरूर में दाखिल करवाया गया। इस मौके अस्पताल पहुंचे मिशन के राष्ट्रीय प्रधान दर्शन सिंह कांगड़ा की ओर से मरीजों का हालचाल पूछा गया। उन्होंने कहा कि उनकी ओर से मामला प्रशासन के ध्यान में लाया गया था। लेकिन सीवरेज की समस्या का हल अभी नहीं हुआ। सीवरेज बोर्ड ने यदि समस्या का समाधान न किया तो मिशन की ओर से सुंदर बसती के लोगों से मिलकर सीवरेज बोर्ड के खिलाफ मोर्चा खोला जाएगा।

Edited By: Jagran