बगहा। नगर थाना क्षेत्र के शेरवा गांव में एक परिवार के आधा दर्जन लोग मछली का सेवन कर बीमार पड़ गए। कुछ घंटों बाद उन्हें उल्टी व दस्त शुरू हो गई। पीड़ितों की स्थिति नाजुक होते देख आसपास के लोग उन्हें इलाज के लिए अनुमंडलीय अस्पताल लाए। जहां चिकित्सक डॉक्टर तारिक नदीम ने पीड़ितों का उपचार किया। बताया कि ये सभी फूड प्वाइजनिग से पीड़ित हैं। उपचार के बाद मरीजों की हालत स्थिर बताई जा रही है। चिकित्सक ने बताया कि भीषण गर्मी एवं उमस भरे मौसम में मछली का सेवन करने से ये लोग प्वाइजनिग का शिकार हो गए हैं। पीड़ितों में उदय चौधरी, रानी देवी, श्याम बहादुर कुमार, काजल कुमारी, शिवम कुमार शामिल हैं। सभी का इलाज जारी है। स्थिति खतरे से बाहर है। चिकित्सक ने दूषित पनी, बासी भोजन और गंदगी से परहेज करने का सुझाव दिया। इसके साथ ही ऐसे मौसम में धूप से बचने की सलाह दी।

27 नंबर फाइल में इंसेट: मेडिकल टीम पहुंचने के बाद डायरिया पर नियंत्रण नहीं हुआ छिड़काव सहित बचाव का कोई उपाय बगहा। नगर के वार्ड संख्या चार में डायरिया पीड़ित परिवार के घर मेडिकल टीम पहुंचने के कुछ घंटे बाद स्थिति नियंत्रण में आ गई, लेकिन दूसरे दिन भी टीम कैंप कर स्थिति की निगरानी करती रही। सब कुछ ठीकठाक होने के बाद बुधवार की दोपहर स्वास्थ्य कर्मियों की टीम वापस चली गई। चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. रणवीर सिंह ने बताया कि स्थिति सामान्य होने के साथ नियंत्रण में है। पीड़ित परिवार को उबला हुआ पानी, ताजा व गर्म भोजन करने का सुझाव दिया गया है। आसपास सफाई का विशेष ध्यान देने की सलाह दी गई। गुरुवार सुबह मेडिकल कर्मचारी के माध्यम से डीडीटी व ब्लीचिग पाउडर का छिड़काव किया जाएगा। प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. संदीप कुमार राय ने बताया कि पीड़ित परिवार में भी एक आशा है उसके साथ अन्य आशा को निर्देश देते हुए आसपास के परिवार व स्थिति का सर्वे करने का आदेश दिया गया है। किसी भी विषम परिस्थिति की सूचना अविलंब देने का निर्देश दिया गया है।

Edited By: Jagran