जागरण संवाददाता, कैथल : संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर जाट धर्मशाला में पूर्व सैनिकों, किसान संगठनों व बेरोजगार युवाओं का संयुक्त सम्मेलन हुआ। इसे जय जवान-जय किसान सम्मेलन का नाम दिया गया था। इसमें पूर्व सैनिकों के प्रधान जगजीत सिंह, संयुक्त किसान मोर्चा के जिला संयोजक भरत सिंह बैनीवाल व मनजीत सिंह ने अध्यक्षता की। मंच संचालन सतपाल दिल्लोंवाली व जय प्रकाश शास्त्री ने किया।

किसान सभा के राज्य प्रधान फूल सिंह श्योकंद और अन्य वक्ताओं ने कहा कि केंद्र की सरकार ने किसानों के साथ विश्वासघात किया है, जो कमेटी सरकार ने बनाई है वह हमें मंजूर नही है। उन्होंने मांग करते हुए कहा कि अग्निपथ योजना को तत्काल वापस लिया जाए। इसके तहत जारी सभी अधिसूचनाओं को वापस लिया जाए। नियमित, स्थायी भर्ती की समय-परीक्षा पद्धति जारी की जाए। अग्निपथ विरोधी प्रदर्शनकारियों के खिलाफ सभी मामले वापस लिए जाए और गिरफ्तार युवकों को तत्काल रिहा किया जाए। रक्षा क्षेत्र में कोई निजीकरण नहीं होना चाहिए। सरकार को राष्ट्रीय सुरक्षा और सशस्त्र बलों के सम्मान और मनोबल की रक्षा के लिए अपनी जिम्मेदारी स्वीकार करनी चाहिए। किसानों के साथ दिसंबर 2021 को हुए समझौते को लागू किया जाए। जुमला मालिकान जमीन को पंचायतों के हवाले करना बंद किया जाए। खराब हुई फसलों की विशेष गिरदावरी करवा कर मुआवजा दिया जाए सहित अन्य मांगों को पूरा किया जाए। उन्होंने बताया कि 17 अगस्त को संयुक्त किसान मोर्चा कैथल का एक शिष्टमंडल उपायुक्त व पुलिस अधीक्षक से मिलकर 20 जून को दर्ज मुकदमे वापस करवाने व खराब हुई फसलों की विशेष गिरदावरी करवाने की मांग करेगा।

इस अवसर पर सुखपाल कुलतारन, डिपल, दलबीर पूनिया, बलवान सिंह पाई, मास्टर बलबीर सिंह, रमेश हरित, जसबीर सिंह, दर्शन सिंह बलबेहड़ा, रामफल भानपुरा, जयपाल फौजी प्यौदा सहित अन्य मौजूद रहे।

Edited By: Jagran