नैनीताल, जागरण संवाददाता : नैनीताल में पुलिस महकमे में उस समय खलबली मच गई, जब 112 के माध्यम से पुलिस को झील में युवकों के डूबने की सूचना मिली। आनन-फानन में तल्लीताल थाना और मल्लीताल कोतवाली पुलिस कर्मी झील में नाव लेकर युवकों की तलाश में जुट गए।

सूचना के बाद फायर ब्रिगेड, एसडीआरएफ, जल पुलिस मौके पर पहुंच झील में युवक की तलाश करने लगी। बीच झील में जाकर देखा तो चार युवक झील में तैरते हुए मिले। जिनको पकड़कर पुलिस थाने ले आई। जहां चारों के विरुद्ध चालानी कार्रवाई की गई है।

बता दें कि नैनी झील में नहाना व तैरना प्रतिबंधित है। कुछ वर्ष पूर्व हाई कोर्ट ने भी झील में तैराकी प्रतिबंधित करने के निर्देश दिए थे। रविवार दोपहर मूसलाधार वर्षा के दौरान 112 पर पुलिस को सूचना मिली की झील के बीचो बीच एक नाव पलट गई है। जिसमें सवार कुछ युवक डूब रहे है। जिसके बाद पुलिस में हड़कंप मच गया।

तल्लीताल थाना और मल्लीताल कोतवाली पुलिसकर्मी नाव लेकर झील की ओर चल पड़े। सूचना पर फायर ब्रिगेड और एसडीआरएफ, जल पुलिस के जवान भी झील में उतर युवकों की तलाश करने लगे। करीब पांच मिनट तक तलाशने के बाद बीच झील में जाकर देखा तो नाव के अगल-बगल कुछ युवक तैर रहे थे। जिनको पकड़ पुलिस थाने ले आई।

पुलिस अधिकारियों को छकाया, हुआ महज 500 का चालान

युवकों के डूबने की सूचना से पुलिस विभाग में हड़कंप मच गया। सूचना पर थाने और कोतवाली की पुलिस ही नहीं बल्कि फायर ब्रिगेड और एसडीआरएफ की टीम भी मौके पर पहुंच गई। इतना ही नहीं एसपी क्राइम व यातायात जगदीश चंद्र सीओ नितिन लोहनी तक को आना पड़ा।

युवकों को तैरता देख पुलिस के भी जान पर जान आई। इस दौरान करीब एक घंटे तक पुलिस की फजीहत होती रही। मगर पुलिस ने चारों को महज 500- 500 की चालानी कार्रवाई की छोड़ दिया गया।

Edited By: Skand Shukla