हिसार, जागरण संवाददाता। हिसार सिविल अस्पताल में फोरेंसिक एक्सपर्ट अलाट होने पर अब जांच के लिए शव अग्रोहा नहीं भेजने पड़ेंगे, स्वास्थ्य मुख्यालय की तरफ से जिला अस्पताल को करीब 42 डाक्टर अलाट किए गए है। इनमें हिसार को फारेंसिक एक्सपर्ट सहित सात विशेषज्ञ डाक्टर अलाट किए गए है। नागरिक अस्पताल में सबसे अधिक समस्या फोरेंसिक एक्सपर्ट के न होने की है, जो फोरेंसिक एक्सपर्ट के आने पर दूर हो जाएगी।

हिसार अस्पताल में फोरेंसिक एक्सपर्ट न होना बड़ी समस्या

गौरतलब है कि नागरिक अस्पताल में फोरेंसिक एक्सपर्ट न होने के कारण मर्डर, संदिग्ध मौत के मामलों में फोरेंसिक एक्सपर्ट की राय की जरुरत होती है, लेकिन हिसार के नागरिक अस्पताल में फोरेंसिक एक्सपर्ट न होने के कारण शवों को सिर्फ फोरेंसिक एक्सपर्ट की राय के लिए अग्रोहा मेडिकल कालेज भेजना पड़ता था। कई बार कुछ गंभीर व बड़े मामलों में फोरेंसिक एक्सपर्ट को हिसार के नागरिक अस्पताल में शव की जांच करनी पड़ती है। वहीं कई बार स्वजनों के धरना-प्रदर्शन करने पर और उनकी मांग पर भी नागरिक अस्पताल में ही फोरेंसिक एक्सपर्ट को बुलाकर फोरेंसिक एक्सपर्ट की देखरेख में पोस्टमार्टम करवाए गए है।

ऐसे कई मामले है, जिनमें फोरेंसिक एक्सपर्ट की जरुरत पड़ी है, जिले का मुख्य अस्पताल होने के कारण यहां पर हिसार के ही नहीं, बल्कि अक्सर बाहरी जिलो और राजस्थान, पंजाब तक के मृतको के पोस्टमार्टम नागरिक अस्पताल में किए जाते है। वहीं अब स्वास्थ्य विभाग की तरफ से जारी लिस्ट में फाेरेंसिक एक्सपर्ट अलाट किए गए है। इनके हिसार में ज्वाइन करने पर उपरोक्त समस्याएं खत्म हो जाएगी। गौरतलब है कि जिले को 42 डाक्टर अलाट किए गए है। इनमें फोरेंसिक एक्सपर्ट के साथ, हड्डी रोग विशेषज्ञ, कम्यूनिटी मेडिसिन के डाक्टर, एक आइ स्पेशलिस्ट, चार मेडिकल आफिसर, हांसी में एक बाल रोग विशेषज्ञ, एक गायनी सहित मेडिकल आफिसर अलाट किए गए है। हिसार में अब तक पांच डाक्टरों ने ज्वाइन करने के लिए सीएमओ कार्यालय में दस्तावेज प्रस्तुत किए है।

Edited By: Naveen Dalal

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट