खंडवा, जागरण आनलाइन डेस्‍क। खंडवा रेलवे स्टेशन ( Khandwa railway station) पर बने फुट ब्रिज पर लिफ्ट में दो बच्चों समेत चार दंपत्ति फंस गए। लिफ्ट खराब होने पर वे घबरा गए। पहले तो उसने मदद के लिए पुकारा लेकिन आने वाले यात्रियों ने नहीं सुनी।

इसके बाद उन्होंने खंडवा निवासी अपने रिश्तेदारों और लिफ्ट में लिखे नंबर पर फोन किया। इसके बाद रेलवे कर्मचारी पहुंचे और लिफ्ट को खोलने का प्रयास किया। एक साल और चार साल के बच्चे भी घबराने लगे। उन्हें बिस्कुट और पानी दिया गया।

दो घंटे बाद बुरहानपुर से पहुंचे मैकेनिक

स्‍थानीय मैकेनिक लिफ्ट नहीं खोल सका। दो घंटे बाद बुरहानपुर से पहुंचे कंपनी के मैकेनिक ने लिफ्ट खोलकर परिवार के सदस्यों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया।

नासिक निवासी एजाज कुरैशी और सना कुरैशी अपने एक साल और चार साल के बच्चे को लेकर सुबह साढ़े सात बजे खंडवा रेलवे स्टेशन पहुंचे। इधर प्लेटफार्म नंबर एक और दो के बीच लगी लिफ्ट में सवार होकर पैदल ही पुल के ऊपर पहुंचा।

लिफ्ट रुकी तो घबरा गए लोग

यहां से पांच नंबर प्लेटफार्म पर गया और फिर इस हिस्से में लगी लिफ्ट से नीचे उतरने लगा। इसी बीच लिफ्ट बीच में फंस गई। लिफ्ट अचानक रुकी तो वह घबरा गया। इसके बाद परिजनों व रेलवे अधिकारियों को इसकी सूचना दी गई। रेलवे स्टेशन पर लिफ्ट ठीक करने के लिए मैकेनिक नहीं होने के कारण स्थानीय मैकेनिक को बुलाया गया।

पिछले 5 महीने में तीन बार खराब हुई लिफ्ट

खोलने की कोशिश की लेकिन लिफ्ट नीचे गिरने के डर से उसने ज्यादा कोशिश नहीं की गई। लिफ्ट तक हवा पहुंचाने के लिए जगह बनाई और पंखा भी चालू किया, जिससे परिवार को राहत मिली। इसी दौरान परिजन भी पहुंच गए, लिफ्ट में ऊपर से बिस्कुट और पानी की बोतलें पहुंचायी गई।

लिफ्ट कंपनी के मैकेनिक ने बुरहानपुर पहुंचकर पांच-दस मिनट में इमरजेंसी गेट खोल दिए और सभी को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया। खंडवा में मैकेनिक न होने पर परिजनों ने नाराजगी जताई। पिछले पांच महीने में लिफ्ट खराब होने की यह तीसरी घटना है।

Edited By: Babita Kashyap

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट