देहरादून, [जेएनएन]: शिक्षक दंपती के पुत्र ने आइएससी परीक्षा में न सिर्फ अपनी काबिलियत साबित की, बल्कि माता-पिता का भी मान बढ़ाया। ट्यूशन से ज्यादा माता-पिता की मेहनत काम आई, जिन्होंने उन पर पढ़ाई के लिए दबाव तो नहीं बनाया, लेकिन निरंतर खुद के तैयार किए गए प्रश्न-पत्र हल करवाए। टचवुड स्कूल के कक्षा 12वीं के छात्र समर्थ मित्तल ने अभिभावकों के इस मार्गदर्शन से  97.75 प्रतिशत अंक हासिल कर स्कूल टॉप किया।

समर्थ ने गणित में 100, अंग्रेजी में 95, फिजिक्स में 97 और कंप्यूटर साइंस में 99 अंक हासिल किए हैं। समर्थ सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनना चाहते हैं। उन्होंने जेईई मेंस एडवांस परीक्षा दी है। वह चाहते हैं कि देश के शीर्ष कॉलेज से इंजीनियरिंग की पढ़ाई करें। वह भविष्य में देश में ही सेवाएं देना चाहते हैं। 

समर्थ ने सफलता का श्रेय माता-पिता के साथ ही स्कूल के शिक्षकों को दिया है। समर्थ के पिता संजीव मित्तल कंप्यूटर और मां शालिनी टचवुड स्कूल में ही केमिस्ट्री की शिक्षक हैं। वह कहते हैं कि कोचिंग से ज्यादा स्कूल के शिक्षकों की ही पढ़ाई उनके काम आई। समर्थ टचवुड स्कूल के हेड ब्वॉय रहे हैं और विभिन्न शैक्षणिक गतिविधियों में कई पदक जीत चुके हैं।

यह भी पढ़ें: सीबीएसई 12वीं परिणाम: दून के होनहारों ने साबित की काबिलियत

PICS: सीबीएसई 12वीं में अच्‍छे अंक आने पर झूमे छात्र

यह भी पढ़ें: देहरादून रीजन में नोएड की रक्षा ने किया सीबीएसई टॉप

Posted By: Sunil Negi