हैदराबाद। आन्ध्र प्रदेश इंटर के सेकेंड ईयर के परीक्षा परिणाम पर बने सस्पेंस को साफ करते हुए बोर्ड ने साफ कर दिया कि वो 19 अप्रैल को इसकी घोषणा कर सकते हैं। इस खबर को करीब साढ़े चार लाख बेचैन छात्रों ने स्वागत किया है जो पिछले करीब एक महीने से परीक्षा परिणाम आने का इंतजार कर रहे हैं।


बोर्ड की तरफ से इस बात की घोषणा किए जाने से पहले कई तरह के कयास लगाए जा रहे थे कि तकनीकी कारणों से इस बार आन्ध्र प्रदेश के सेकेंड ईयर के छात्रों के परिक्षा परिणाम आने में देरी हो सकती है।


इंटरमीडिएट बोर्ड की तरफ से सेकेंड ईयर के परीक्षा परिणाम 19 अप्रैल को आने की घोषणा के बाद ये भी कहा गया है कि छात्र अपने परीक्षा परिणाम बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर ऑनलाइन देख सकते हैं। इसके अलावा, आन्ध्र प्रदेश के इंटर के सेकेंड ईयर का परिणाम http://ap12.jagranjosh.com पर भी देखा जा सकता है।

ऑनलाइन परीक्षा परिणाम देखते वक्त आनेवाली परेशानियों से छात्रों को बचाने के लिए परीक्षा परिणाम आनेवाले दिन बोर्ड की तरफ से व्यापक इंतजाम किए किए हैं। बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर भारी ट्रैफिक बढ़ने की वजह से इसमें आनेवाली दिक्कतों को देखते हुए बोर्ड किसी तीसरी पार्टी की वेबसाइट की मदद भी ले सकता है।

ये भी पढ़ें- 19 अप्रैल को आएगा आन्ध्र प्रदेश इंटरमीडिएट बोर्ड परीक्षा का परिणाम

सभी संबंधित वेबसाइटों से छात्रों के लिए 12वीं के सेकेंड ईयर के परीक्षा परिणाम को देखने की ऑनलाइन प्रकिया को आसान रखने को कहा गया है, ताकि छात्र आसानी से कम समय में इसे देख सके। आन्ध्र प्रदेश बोर्ड के12वीं सेकेंड ईयर के छात्र केवल हॉल टिकट/रजिस्ट्रेशन नंबर के साथ अन्य जरूर जानकारी देकर वेबसाइट पर अपने परीक्षा परिणाम देख सकेंगे।

इस वर्ष मार्च के महीने में आन्ध्र प्रदेश इंटरमीडिएट बोर्ड(बीआईईएपी) की परीक्षा हुई थी। ये परीक्षा 3 मार्च को शुरू की गई थी और 21 मार्च को भूगोल/आधुनिक भाषा के पेपर के साथ खत्म हुई। पेपर होते ही बीआईईपी की तरफ से परीक्षा परिणाम समय पर देने के लिए युद्धस्तर पर काम शुरू किया गया। प्रभावी रणनीति और उस पर सही तरीके से अमल करने के बाद बोर्ड ने समय पर उस काम को पूरा किया और आंध्र प्रदेश इंडरमीडिएट परिणाम 2016 को 19 अप्रैल को जारी करने की घोषणा की।

12वीं के सेकेंड ईयर का परीक्षा परिणाम स्कूल स्तर के छात्रों के लिए बेहद महत्वपूर्ण माना जाता है। इस परिणाम के आधार पर ही छात्र कॉलेज और यूनिवर्सिटी के अंडरग्रेजुएट कोर्स में दाखिले के योग्य हो पाएंगे। इसके अलावा, इस परिणाम के आधार पर छात्रों के लिए सरकारी और गैर-सरकारी क्षेत्रों में नौकरी की नई संभावनाएं खुलेंगी।

Posted By: Rajesh Kumar