जेएनएन, भिवानी। हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड की दसवीं कक्षा के प्रथम सेमेस्टर (रि-अपीयर) की विज्ञान और बारहवीं कक्षा के द्वितीय सेमेस्टर (रि-अपीयर) की गणित की परीक्षा में नकल के 91 मामले दर्ज किए। बोर्ड सचिव अनिल नागर ने बाहरी व आंतरिक हस्तक्षेप के कारण रोहतक-38 परीक्षा केंद्र को भविष्य में परीक्षा केंद्र न बनाए जाने के निर्देश दिए हैं।

इसके अलावा बोर्ड अध्यक्ष डॉ. जगबीर सिंह के उड़नदस्ते ने ड्यूटी में कोताही बरतने पर तीन सुपरवाइजर हटा दिए हैं। बोर्ड प्रवक्ता ने बताया कि बोर्ड उड़नदस्ते ने भिवानी के परीक्षा केंद्रों का निरीक्षण कर नकल के सात केस पकड़े। बोर्ड सचिव अनिल नागर के उड़नदस्ते ने रोहतक के परीक्षा केंद्रों से नकल के 11 केस पकड़े। अन्य उड़नदस्तों ने नकल के 73 मामले दर्ज किए गए। बोर्ड प्रवक्ता ने बताया कि उड़नदस्ते ने ड्यूटी से कोताही बरतने पर सुपरवाइजर सरिता, ज्योति शर्मा विज्ञान अध्यापिका और पुष्पा कम्प्यूटर अध्यापिका को भिवानी-06 परीक्षा केंद्र से हटा दिया गया।

यह भी पढ़ें : सीनियर छात्र कमरे में आकर करते थे अपने जूनियर से कुकर्म

अचीना परीक्षा केंद्र का गणित का पेपर रद

बोर्ड अध्यक्ष के उड़नदस्ते ने बाहरी व आंतरिक हस्तक्षेपों के कारण 27 मार्च को अचीना (भिवानी) परीक्षा केंद्र पर हुई बारहवीं कक्षा के गणित विषय की परीक्षा रद कर दी है। इसके अलावा इस परीक्षा केंद्र के प्रमुख केंद्र अधीक्षक, केंद्र अधीक्षक, उप-केंद्र अधीक्षक, तीन सुपरवाइजर एवं एक आब्जर्वर को ड्यूटी से हटा दिया है। बोर्ड के अध्यक्ष डॉ. जगबीर सिंह ने मंगलवार को यहां जारी बयान में कहा कि प्रदेशभर के मूल्याकंन केंद्रों का उड़नदस्तों द्वारा औचक निरीक्षण किया जाएगा। उन्होंने कहा कि दसवीं कक्षा की उत्तरपुस्तिकाओं के मूल्यांकन के लिए 62 मूल्यांकन केंद्र स्थापित किए गए हैं, जिन पर 27 मार्च से मूल्यांकन कार्य शुरू हो चुका है। वहीं बारहवीं कक्षा के लिए 29 केंद्रों पर 28 मार्च से मूल्यांकन शुरू हुआ है।

यह भी पढ़ें : प्रिंसिपल चला रहा था फर्जी सर्टिफिकेट का धंधा, 13 विवि के 136 नकली प्रमाण पत्र बरामद

 

Posted By: Ankit Kumar