जिले में खूब चला बिजली कटौती का खेल

जागरण संवाददाता, मऊ : स्वतंत्रता दिवस पर सोमवार को एक तरफ जहां अभूतपूर्व उत्साह से लोग मनाने में जुटे थे, वहीं दूसरी ओर ऊर्जा मंत्री एके शर्मा के इस जिले में भी बिजली के जाने का खूब खेल चला। शहर में रह-रह कर जहां दो-दो घंटे तक बिजली गुल हो रही थी, वहीं ग्रामीण इलाकों में सुबह से गायब हुई बिजली शाम तक लौटने का नाम नहीं ली। दिन भर चली चक्रवाती हवाओं ने भी विद्युत वितरण व्यवस्था को चुनौती पेश किया। ग्रामीण इलाकों में कई स्थानों पर तारों के आपस में सट कर चिंगारी फेंकने और टूट कर गिरने की घटनाएं हुईं।

शहर में एक तरफ लोकल फाल्ट ने विद्युत वितरण व्यवस्था को झटका दिया तो दूसरी ओर 33 केवी मेन सप्लाई से बिजली न आने के चलते लोगों को सायंकाल कई घंटे बिजली आपूर्ति न रहने का दंश झेलना पड़ा। सोमवार को शहर से लेकर गांव तक विद्युत वितरण व्यवस्था अस्त-व्यस्त रही। कोपागंज नगर पंचायत के कई वार्डों में तार टूटने से बिजली गुल हुई। विद्युत आपूर्ति इतनी कम मिली कि दिन में ही लोगों के इनवर्टर जवाब दे गए। चार्ज न होने के चलते स्वतंत्रता दिवस के दिन ग्रामीण इलाकों में हजारों लोगों के मोबाइल फोन बंद हो गए। विभागीय लाईनमैन कहीं तार ठीक किए तो कहीं स्वंतत्रता दिवस के उत्सव में ही खोए रहे और उपभोक्ता भीषण गर्मी के बीच बिजली के अभाव में परेशानी सहने को विवश हुए।

--

खराबी ठीक कराने को ग्रामीणों नें मांगा चंदा

कहीं किसी गांव में कोई लोकल फाल्ट आ जाए तो उसे कई-कई घंटे ठीक नहीं किया जाता है। ग्रामीणों की आम शिकायत रहती है कि बिजली विभाग के अधिकारी फोन करने पर फोन ही नहीं उठाते हैं। उठा भी लें तो ग्रामीणों को परेशानी से निजात नहीं मिलती है। कोपागंज के हिकमा वार्ड में स्वतंत्रता दिवस को तार टूटने से पूरे दिन व रात बिजली गायब रही, बावजूद इसके विभागीय अधिकारियों ने इसकी सुधि नहीं ली। खराबी ठीक कराने के लिए दूसरे दिन ग्रामीणों को आपस में चंदा जुटा कर किसी निजी लाइनमैन की सेवाएं लेनी पड़ी। तब जाकर विद्युत आपूर्ति बहाल हुई। प्रेम कुमार, हृदयनारायन, सोनू यादव आदि उपभोक्ताओं का कहना था कि कई बार जानकारी देने के बावजूद विभाग से कोई टूटा तार जोड़ने नहीं आया। यह तो बानगी भर है, कई गांवों में यही स्थिति सामने आई।

--

कोई विशेष कटौती नहीं थी। चक्रवाती हवा चल रही थी, जिससे तार आपस में लड़ जा रहे थे। इसकी वजह से ट्रिपिंग होती रही। कई जगह तार भी टूटने से विद्युत आपूर्ति में बाधा आई।

- एसके सरोज, अधीक्षण अभियंता, विद्युत वितरण खंड, मऊ।

Edited By: Jagran