करसोग, कुलभूषण वर्मा।

Dattaram Got House, करसोग में मनरेगा टैंक में सात साल से दिव्यांग बेटे के साथ रह रहे 72 वर्षीय दत्तराम के लिए वीरवार का दिन खुशियां लेकर आया है। स्वर्ण जयंती आश्रय योजना गरीब परिवार के लिए सहारा बनी है। इस योजना के तहत ग्राम पंचायत बगैला के बरशोल गांव के दत्तराम के घर का सपना जल्द पूरा होने वाला है। स्वर्ण जयंती आश्रय योजना के तहत वीरवार को आवास स्वीकृत हुआ।

इसके साथ ही मकान के लिए जरूरी औपचारिकताओं को पूरा करने के लिए लेटर भी जारी हो गया है। स्वर्ण जयंती आश्रय योजना के तहत दत्तराम को मकान बनाने के लिए 1.50 लाख रुपये दिए जाएंगे। इसमें घर का कार्य शुरू करने के लिए 75 हजार रुपये की पहली किस्त जारी होगी। इसके बाद आवास का कार्य पूर्ण होने पर 75 हजार रुपये की आखिरी किस्त जारी की जाएगी। यह सब हुआ है www.jagran.com पर समाचार चलाने के बाद करसोग के विधायक हीरा लाल के प्रयासों से।

खबर पर संज्ञान लेते हुए करसोग के विधायक हीरा लाल ने मनरेगा टैंक में रह रहे दतराम के पास पहुंचकर स्थिति का जायजा लिया। इस दौरान विधायक ने दतराम की तंग आर्थिक स्थिति को देखते हुए तुरंत 5000 रुपये की सहायता प्रदान की। इस बारे में हीरा लाल ने मौके पर से ही अधिकारियों से संपर्क कर आवास से संबंधित प्रक्रिया को बिना किसी देरी के पूरा करने के निर्देश जारी किए थे। यही नहीं, विधायक ने दतराम के पुत्र को भी मुफ्त शिक्षा उपलब्ध करवाने और अन्य सुविधाएं दिए जाने का भी भरोसा दिया था। विधायक ने दतराम की पत्नी के निधन पर भी शोक प्रकट किया था। इसके अलावा करसोग तहसील के तहत बगैला पंचायत के बरशोल गांव में दो अन्य गरीब परिवारों को भी प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत जल्द आवास की सुविधा मिलेगी।

यह भी पढ़ें : बरशोल में 72 साल का बुजुर्ग दिव्यांग बेटे समेत मनरेगा के टैंक में रहने को मजबूर, 4 दिन पहले ही पत्नी का हुआ देहांत

क्या कहते हैं विधायक

विधायक हीरा लाल ने बताया कि बरशोल की जनता को जल्द एंबुलेंस मार्ग की भी सुविधा मिलेगी। इसके लिए एससीडीपी के तहत आठ लाख रुपये स्वीकृत हो चुके हैं। इस दौरान ममेल जिला परिषद वार्ड के सदस्य बिहारी लाल शर्मा ने भी बरशोल गांव में सार्वजनिक शौचालय के निर्माण के लिए 40 हजार रुपये की राशि देने की घोषणा की, जिसके लिए स्थानीय जनता ने विधायक का आभार प्रकट किया है।

दत्तराम की आर्थिक स्थिति खराब

दत्तराम और उसका दिव्यांग बेटा सात साल से मनरेगा के टैंक में जीवन काटने को मजबूर हैं। इस परिवार के पास एक रसोई है, जो काफी जर्जर हालत में है जिसमें बरसात में छत से पानी टपक रहा है। दत्तराम की आर्थिक स्थिति भी बहुत खराब है। इस तरह उसके लिए अपने स्तर पर घर बनाना संभव नहीं था।

क्या कहते हैं एसडीएम

एसडीएम करसोग सुरेंद्र ठाकुर का कहना है कि स्वर्ण जयंती आश्रय योजना में दत्तराम को आवास स्वीकृत हो गया है। दैनिक जागरण में मामला सामने आने पर प्रक्रिया अमल में लाई गई है।

Edited By: Virender Kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट