नई दिल्ली, ऑनलाइन डेस्क। US Visa for Students: अगर आप भी अमेरिका में जाकर पढ़ाई करना चाहते हैं तो आपके लिए यह खबर काफी खास है। ट्रंप प्रशासन जल्द ही यूएस जाकर पढ़ाई करने वाले अंतरराष्ट्रीय छात्रों के लिए नियम सख्त करने की तैयारी में है। यूएस ने ऑप्शनल प्रैक्टिल ट्रेनिंग (OPT) के लिए नियम कड़े करने की तैयारी कर ली है। दरअसल विभिन्न देशों से छात्र यूएस में एक वर्षीय ऑप्शनल प्रैक्टिकल ट्रेनिंग के लिए जाते हैं। यह प्रोग्राम साइंस, इंजीनियरिंग, टेक्नोलॉजी और मैथ के छात्रों को डिग्री पूरी करने के बाद अमेरिका में ही काम करने का मौका देता है। इस एक वर्षीय प्रोग्राम के तहत छात्र दो साल के एक्सटेंशन के लिए आवेदन कर सकते हैं और तीन साल का वर्क एक्सपीरिंयस इस प्रोग्राम के अंतर्गत प्राप्त कर सकते हैं।

यह प्रस्ताव उन एंटी-इमीग्रेशन ग्रुप्स के लिए खशी की खबर है जिनका कहना है कि ओपीटी छात्र कम पैसे में काम करके अमरिकी जॉब्स प्राप्त कर लेते हैं। अमेरिकी सरकार के इस नए एजेंडे में कहा गया है, 'यूएस इमीग्रेशन और कस्टम्स एनफोर्समेंट मौजूदा नियमों और M एवं F वीजा पर आने वाले छात्रों के लिए नॉन-इमीग्रेंट स्टूडेंट्स के लिए ओपीटी ऑप्शंस में संशोधन करेगा।'

बता दें कि F वीजा उन छात्रों को दिया जाता है जो डिग्री करते हुए एकेडमिक ट्रेनिंग लेते हैं और M वीजा वोकेशनल ट्रेनिंग कर रहे छात्रों को दिया जाता है। अमेरिकी इमिग्रेशन और कस्टम इंफोर्समेंट ओपीटी की गवर्निंग कंपनी है। एक ग्लोबल इमीग्रेशन लॉ फर्म Fragomen के सदस्य, मिशेल वेक्सलर (Mitchell Wexler) के मुताबिक, अगस्त 2020 में आने वाले इस प्रस्ताव में अंतरराष्ट्रीय छात्रों के लिए वर्तमान में मौजूद ओपीटी ऑप्शंस पर प्रतिबंध लगाया जा सकता है।

अमेरिकी वीजा पाने वाले अंतरराष्ट्रीय छात्रों में भारतीयों की संख्या काफी सबसे ज्यादा है। एक रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिका में करीब 84,630 भारतीय छात्र ऑप्शनल प्रैक्टिकल ट्रेनिंग कर रहे हैं, जबकि अंडरग्रेजुएट कोर्सेज में 24,813, ग्रेजुएट कोर्सेज में 90,333 और 2,238 अन्य डिग्री कोर्स कर रहे हैं।

Posted By: Neel Rajput

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप