नई दिल्ली [अरुण श्रीवास्तव]। करियर और परीक्षा से जुड़े कई सवाल अक्सर हमें परेशान करते हैं। इसी तरह के सवाल और जवाब नीचे मौजूद हैं-

मैं दसवीं कक्षा में हूं। इंग्लिश में मेरी काफी रुचि है, पर मैथ्स में कमजोर हूं। मैं आइएएस बनना चाहता हूं। क्या इससे मेरे करियर पर कोई प्रभाव पड़ सकता है? मुझे अपने सपने को हासिल करने के लिए क्या करना चाहिए?

-श्याम कुमार सिंह, ईमेल से

आइएएस की तैयारी करने और आइएएस बनने के लिए मैथ्स की बहुत अधिक जानकारी की जरूरत नहीं होती। सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा के सीसैट पेपर में दसवीं स्तर के मैथ्स पर आधारित कुछ सवाल होते हैं, जिन्हें आप आसानी से हल कर सकते हैं। आगे भी मैथ्स की कोई बहुत ज्यादा जानकारी या विशेषज्ञता की जरूरत नहीं होती। न ही इसका आपके करियर पर कोई असर ही पड़ेगा। इसलिए इस विषय से डरने की कतई जरूरत नहीं है। हालांकि आप इसे अपनी कमजोरी मानने की बजाय इच्छाशक्ति से इसे अपनी ताकत बना सकते हैं। जहां तक अपने सपने को हासिल करने की बात है, तो आप अभी से हर विषय में अपनी नॉलेज बढ़ाने (रटने नहीं) पर ध्यान दें। इसके लिए एनसीईआरटी की किताबों, अखबारों, पत्रिकाओं, आधिकारिक ऑनलाइन न्यूज पोर्टल्स आदि के जरिए जानकारी जुटाएं। और फिर उसी अनुसार अपने नॉलेज के स्तर को बढ़ाकर आप अपने सपने को हकीकत में बदल सकते हैं।

मैं 10वीं कक्षा का छात्र हूं और मुझे गणित पसंद नहीं है। मैं अपने करियर को एक पायलट के रूप में बनाना चाहता हूं। क्या मैं 11वीं कक्षा में अपने विषय के रूप में जीव विज्ञान लेकर एक पायलट बन सकता हूं?

मधुर सिंह, ईमेल से

एनडीए के जरिए पायलट बनने के लिए बारहवीं में पीसीएम होना चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि एक पायलट को मशीनों/उपकरणों के बारे में जानना जरूरी होता है, जिसके लिए मैथ्स और फिजिक्स की जानकारी आवश्यक होती है। आप पुन: विचार कर लें और अगर पायलट बनने का ही जुनून है, तो पीसीएम में रुचि लेने और बढ़ाने का प्रयास करें।

मैं यूपी बोर्ड से आर्ट साइड से बारहवीं कर रही हूं। मुझे गवर्नमेंट एडवोकेट बनना है। क्या इसके लिए मुझे क्लैट देना होगा? क्लैट के जरिए क्या मुझे दिल्ली का गवर्नमेंट कॉलेज मिल जाएगा? इसकी फीस के बारे में भी बताएं।

-नियति सिंह, ईमेल से

आप बारहवीं के आधार पर ‘क्लैट’ यानी कॉमन लॉ एडमिशन टेस्ट में शामिल हो सकती हैं। इसके आधार पर आपको पांच वर्षीय लॉ कोर्स में एडमिशन मिल सकता है। क्लैट में मेरिट में ऊपर आने पर आप अपनी पसंद के कॉलेज का विकल्प चुन सकती हैं। वह दिल्ली का गवर्नमेंट कॉलेज भी हो सकता है। इसके लिए आपको क्लैट के पेपर्स की तैयारी पर कम से कम छह महीने पहले से ध्यान देते हुए इसकी नियमित तैयारी और प्रश्नों को हल करने का अभ्यास करना चाहिए। क्लैट के पिछले वर्षों के प्रश्न आपको इसकी साइट से मिल सकते हैं। फीस के बारे में आप कॉलेज/संस्थान की वेबसाइट से पता कर सकती हैं। जहां तक सरकारी वकील बनने की बात है, तो कई राज्यों में लोक सेवा आयोग द्वारा इसके लिए एपीओ परीक्षा ली जाती है।

Posted By: Neel Rajput

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस