नई दिल्ली [रीतिका मिश्र]। कोरोना के चलते सभी स्कूल-कॉलेज बंद होने के बाद केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने सभी स्कूलों को ई-पाठशाला शुरू करने का निर्देश दिया था। जिसके बाद राजधानी के सभी प्राइवेट स्कूलों ने ऑनलाइन एप का सहारा लिया है। इसकी मदद से छात्र घर बैठे ही स्कूल की तरह कक्षा में उपस्थिति दर्ज करा रहे हैं और पढ़ाई भी कर रहे हैं।

स्कूलों ने तो बाकायदा हर कक्षा के शिक्षकों व बच्चों का वाट्सएप ग्रुप बनाया है। जिसमें शिक्षक ग्रुप का एडमिन है। ग्रुप में शिक्षक नोट्स, पाठ्यक्रम की पीडीएफ और वीडियो को साझा कर रहे हैं। अगर किसी छात्र को कोई परेशानी होती है तो वह फौरन उस पाठ्यक्रम से जुड़े प्रश्नों को ग्रुप में पूछ सकता है। बच्चों के सभी सवालों का जवाब भी शिक्षक इस ग्रुप में वीडियो व आडियो के जरिये दे रहे है।

स्काइप, जूम, यू-ट्यूब से भी पढ़ाई

यूं तो सभी स्कूलों के शिक्षक और बच्चों ने वाट्सएप ग्रुप बनाया है, लेकिन बच्चों को कक्षा का रियल-टाइम टच देने के लिए शिक्षक जूम, स्काइप और यूट्यूब का सहारा ले रहे है। इसके जरिये शिक्षक एक साथ कई बच्चों को लाइव वीडियो की मदद से पढ़ा रहे हैं। वहीं, यूट्यूब में भी शिक्षक अपने पाठ्यक्रम का वीडियो बना कर साझा कर रहे हैं। इन एप के जरिए शिक्षक एक साथ कई बच्चों से जुड़कर कक्षा की तरह ही एक-एक बच्चे की समस्याओं को हल कर रहे हंै। शिक्षकों के मुताबिक ये ऑनलाइन टूल्स काफी मददगार साबित हो रहे हैं। शुरुआत में जिस तरह से पाठ्यक्रम को पूरा करने की चिंता थी वह अब थोड़ी कम हुई है।

रोजाना लगती हैं ऑनलाइन कक्षाएं

शिक्षक छात्रों को रोजाना बिना छुट्टी और लेटलतीफ किए इन एप्स के माध्यम से पढ़ा रहे हैं। मानव स्थली स्कूल, राजेंद्र नगर की शिक्षिका मधु कक्कड़ ने कहा कि कोरोना वायरस से दुनिया भर में जो स्थिति बनी है उससे निपटने के लिए घर बैठे ऑनलाइन शिक्षा देना ही सबसे कारगर था। इससे छात्रों का पाठ्यक्रम पूरा रहा है। उन्हें ऑनलाइन चीजें भी समझ में आ रही हैं।

सलवान पब्लिक स्कूल, राजेंद्र नगर के हिंदी एचओडी संजय मिश्र का कहना है कि नया सत्र शुरू होने के बाद छात्रों में कक्षा में आने से लेकर नई किताबें और नए दोस्त बनाने का जो उत्साह दिखता है ठीक वैसा ही ऑनलाइन कक्षाओं में भी देखने को मिल रहा है।

क्या है छात्रों की राय

मानव स्थली स्कूल के छात्र ध्रुव गुप्ता ने कहा कि ऑनलाइन कक्षाएं स्काइप पर शुरू हुईं हैं। अभी तक तीन-चार कक्षाएं हो गईं हैं। पढ़ाई में बहुत मजा आ रहा है। ऑनलाइन पढ़ाई मजेदार तो है ही साथ ही छात्र का पूरा ध्यान सिर्फ शिक्षक पर होता है।

एक अन्य छात्र संकम मिश्र ने बताया कि कभी सोचा नहीं था कि घर बैठे भी आसान तरीके से सभी छात्र एक साथ पढ़ाई करेंगे। ऑनलाइन पढ़ाई बहुत कारगर है। इसके जरिये पाठ्यक्रम छूट जाने की चिंता भी नहीं है।

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस