नई दिल्ली (रीतिका मिश्रा)। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) सत्र 2020- 2021 से कक्षा 11वीं में तीन नए विषयों की शुरुआत कर रहा है। बोर्ड के मुताबिक नई पीढ़ी को अधिक रचनात्मक, नवीन, शारीरिक रूप से फिट बनाने के लिए, कार्यस्थल पर वैश्विक विकास और आवश्यकताओं के साथ तालमेल रखने के लिए इन विषयों की शुरुआत की जा रहीं है। बोर्ड के अधिकारियों ने कहा कि कक्षा 11वीं में तीन विषय ('डिजाइन-थिंकिंग', 'फिजिकल एक्टिविटी ट्रेनर' और 'आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस) सत्र 2020-2021 से शुरू किए जाएंगे। 

इन नए विषयों के अलावा बोर्ड माध्यमिक स्तर पर 17 कौशल विषयों और युवा पीढ़ी के कौशल विकास के लिए वरिष्ठ माध्यमिक स्तर पर 37 कौशल विषयों की पेशकश कर रहा है। बोर्ड ने स्कूलों से अनुरोध किया है कि वह कक्षा नौवीं और 11वीं के छात्रों के लिए कोई एक या एक से अधिक कौशल पाठ्यक्रम चुनने पर विचार करें और शैक्षणिक सत्र 2020-21 से ही इसकी पेशकश शुरू करें।

उल्लेखनीय है कि, बोर्ड के 8543 स्कूलों में आठ लाख से ज्यादा छात्र सेकेंड्री और सीनियर सेकेंड्री लेवल पर स्किल विषयों को पढ़ रहे है। बोर्ड के द्वारा जारी सर्कुलर के अनुसार माध्यमिक स्तर पर, एक कौशल विषय को मौजूदा पांच अनिवार्य विषयों के साथ अतिरिक्त छठे विषय के रूप में पेश किया जा सकता है।

मौजूदा सीबीएसई नीति के अनुसार, यदि 10वीं बोर्ड का कोई भी छात्र तीन वैकल्पिक विषयों (अर्थात विज्ञान, गणित और सामाजिक विज्ञान) में से किसी एक में असफल रहता है, तो उसे कौशल विषय (छठवें वें विषय के रूप में प्रस्तुत किया जाएगा) और कक्षा 10 का परिणाम दिया जाएगा। वहीं, सर्वश्रेष्ठ पांच विषयों के आधार पर गणना की जाएगी। हालांकि, यदि कोई उम्मीदवार असफल विषय में फिर से आना चाहता है, तो वह कम्पार्टमेंट परीक्षा में शामिल हो सकता है।

इसी तरह, सीनियर सेकेंडरी स्तर पर स्कूल 40 विषयों में से कम से कम एक या एक से अधिक स्किल बेस्ड विषयों को ऐच्छिक विषय के रूप में पेश करता है।

Posted By: Prateek Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस