Karnataka SSLC Exams 2020: कर्नाटक सरकार (Karnataka government) ने जून में एसएसएलसी (SSLC EXam 2020) की परीक्षाएं कराने का निर्णय लिया है। लेकिन अब इन परीक्षाओं पर दोबारा मंथन शुरू हो गया है। दरअसल शिक्षाविदों और बुद्धिजीवियों ने मुख्यमंत्री बी. एस येदियुरप्पा सीएम येदियुरप्पा को एक पत्र लिखा है, जिसमें उन्होंने 10वीं की बची हुईं परीक्षाएं कैंसिल करके छात्रों को अगली कक्षा में प्रमोट करने की अपील की है।

विशेषज्ञों ने सीएम को राज्य में आगामी बोर्ड परीक्षाओं को रद्द करने के कई कारण बताए हैं। उन्होंने सीएम को भेजे पत्र में लिखा है, एसएसएलसी की परीक्षाओं में करीब 8.5 लाख छात्र और 2.5 लाख कर्मचारी शामिल हैं। इसके अलावा अगर हम उन अभिभावकों को भी शामिल करते हैं, जो अपने बच्चों को परीक्षा केंद्र में छोड़ने आते हैं, तो लगभग 30 लाख लोग इस प्रक्रिया में शामिल होंगे। ऐसे में कोरोना वायरस बीमारी के दौर में इतनी बड़ी संख्या में लोगों को एक जगह इकठ्ठा करना जोखिम भरा कदम हो सकता है।

हालांकि सरकार ने कहा है कि वह छात्रों की पूरी जांच करेगी। यह मालूम करेगी कि उन्हें बुखार तो नहीं है। इस पर पत्र में लिखा गया है कि क्या छात्र बुखार होने की बात स्वीकार करेंगे? अगर वे पेरासिटामोल का सेवन करते हैं और परीक्षा लिखने के लिए आते हैं तो क्या होगा? यह एक जोखिम भरा कदम हो सकता है।

इसके अलावा शिक्षाविदों ने पत्र में यह भी पूछा है कि क्या सरकार उन छात्रों के लिए सप्लीमेंट्री परीक्षा आयोजित करेगी जो असफल होंगे। परीक्षा आयोजित करने में 20 से 25 करोड़ रुपये की भारी लागत आती है। इसलिए खर्चों पर अंकुश लगाने के लिए परीक्षा रद्द की जानी चाहिए और छात्रों को पदोन्नत किया जाना चाहिए। बता दें कि देश भर के तमाम राज्यों ने बोर्ड परीक्षाएं कैंसिल कर दी थीं। हालांकि कई बोर्ड ने अब परीक्षाओं की तारीखें घोषित कर दी हैं। इनमें सीबीएसई और आईसीएससी बोर्ड की परीक्षाएं भी शामिल हैं। 

 

Posted By: Nandini Dubey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस