Karnataka School: कर्नाटक सरकार ने कक्षा 1 से 10 तक के छात्रों के सत्र 2020-21 के सिलेबस को कम करने के लिए सामाजिक विज्ञान की पाठ्यपुस्तकों से इस्लाम, ईसाई धर्म, टीपू सुल्तान और हैदर अली सहित कुछ अध्यायों को हटाने के प्रस्ताव पर रोक लगा दी है। कोविड-19 महामारी के दौरान एकेडमिक कैलेंडर में व्यवधान को देखते हुए राज्य सरकार ने पहले कक्षा 7 के सामाजिक विज्ञान की पाठ्यपुस्तकों से टीपू सुल्तान और हैदर अली के अध्यायों को हटाने का फैसला किया था। जिसमें कहा गया था कि कक्षा 6 और 10 की पाठ्यपुस्तकों में टीपू सुल्तान पर अध्यायों को बरकरार रखा गया है। सरकार के इस निर्णय की विपक्ष द्वारा व्यापक रूप से आलोचना की गई। अब कर्नाटक सरकार ने सामाजिक विज्ञान की पाठ्य पुस्तकों से कुछ अध्याय हटाने के विवादस्पद प्रस्ताव पर रोक लगा दी है।

राज्य के प्राथमिक एवं माध्यमिक शिक्षा मंत्री एस सुरेश कुमार के निर्देशों पर, सार्वजनिक निर्देश विभाग ने एक नई अधिसूचना जारी की है। वहीं, प्राथमिक एवं माध्यमिक शिक्षा मंत्री एस सुरेश कुमार ने कहा है कि महामारी के कारण 2020-21 एकेडमिक सत्र को शुरू करने में देरी हो रही है। इस कारण, कक्षा 1 से 10वीं कक्षा के कुछ अध्याय हटाए गए थे, ताकि पाठ्यक्रम 120 दिन के एकेडमिक सत्र में पूरा हो सके। प्राथमिक एवं माध्यमिक शिक्षा मंत्री के निर्देश पर अध्याय हटाने के फैसले पर फिलहाल रोक लगा दी गई है। बता दें कि अब समीक्षा करने के बाद ही हटाए गए अध्याय वेबसाइट पर डाले जाएंगे।

वहीं, इस संबंध में एस सुरेश कुमार ने कुछ समय पहले ट्वीट किया है। जिसमें कहा है कि उन्होंने इस मुद्दे पर कई मीडिया रिपोर्टों पर गौर किया है। यह अभी भी स्पष्ट नहीं है कि हमारे पास कितने दिन होंगे, क्योंकि शैक्षणिक वर्ष अभी शुरू नहीं हुआ है। उन्होंने यह स्पष्ट किया कि सरकार समाज को नष्ट करने पर काम नहीं करेगी। इससे पहले शिक्षा मंत्री ने एक बयान जारी किया था। जिसमें कहा गया था कि पाठ्यक्रम में कटौती के निर्णय को अभी तक अंतिम रूप नहीं दिया गया है, लेकिन यह स्पष्ट है कि विभाग अनावश्यक रूप से अध्यायों को नहीं हटाएगा।

Posted By: Rishi Sonwal

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस