नई दिल्ली, ब्रांड डेस्क। कोरोना वायरस (Covid-19) की दूसरी लहर पहली लहर से ज्यादा घातक रही, जिसने शहर से लेकर दूर-दराज के इलाकों तक अपना असर छोड़ा है। इस लहर में जहां एक तरफ ज्यादा से ज्यादा लोग प्रभावित हुए, तो वहीं कई परिवारों ने अपने परिजनों को भी खोया है। सबसे ज्यादा पीड़ादायक स्थिति उन बच्चों के लिए रही, जिन्होंने इस माहमारी में अपने माता-पिता खोए। फिलहाल ऐसे बच्चों को आर्थिक और भावनात्मक सहयोग की बहुत ज्यादा जरूरत है। केंद्र और राज्य की सरकारें इस दिशा में काम कर रही हैं, तो वहीं कुछ बी-स्कूल भी बच्चों की सहायता के लिए आगे आए हैं।

दाखिला लेने वाले छात्रों को वित्तीय सहायता

शैक्षणिक संस्थान Jaipuria Institute of Management ने इस मामले में सराहनीय काम किया है। संस्थान ने यह निर्णय लिया है कि नए सत्र में एडमिशन लेने वाले उन छात्रों को फीस पर 50% तक की वित्तीय सहायता दी जाएगी, जिन्होंने पिछले एक साल में अपने पेरेंट्स खोये हैं और जो परिवार की आजीविका अर्जन के मुख्य स्रोत थे।

इस वित्तीय सहायता से छात्र कॉलेज में दाखिला ले सकते हैं और अपनी आगे की पढ़ाई को जारी रख सकते हैं। यह वित्तीय सहायता उन छात्रों को भी दी जा रही है, जो अभी कॉलेज में पढ़ रहे हैं और दूसरे साल में पहुंच चुके हैं। जयपुरिया इंस्टीट्यूट की यह पहल छात्रों के वित्तीय बोझ को कम करेगा और उन्हें अपने सपनों को आगे बढ़ाने में मदद करेगा, वो भी बिना किसी रुकावट के। वैसे इस संस्थान ने CAT, CMAT और MAT की परीक्षा में बेहतर स्कोर या मेरिट लाने वाले छात्रों को पहले से ही 4 लाख रुपये तक के स्कॉलरशिप का प्रबंध किया हुआ है।

मेडिकल इमरजेंसी सपोर्ट

यह ऐसा समय है, जहां ज्यादा से ज्यादा कोरोना मरीजों तक पहुंच बनाना और उनकी मदद करना बहुत आवश्यक है। Jaipuria अपनी टीम के साथ इसी मिशन में जुटा हुआ है। संस्थान के प्रोफेसर, 11000 से अधिक संख्या में एलुमिनाई और वर्तमान छात्र जो नेटवर्क बनाकर देश के अलग-अलग हिस्सों तक मेडिकल इमरजेंसी सपोर्ट दे रहे हैं। साथ ही रोगियों के तनाव को कम करने के लिए परामर्श सेवाएं भी दी जा रही है।

इसके लिए Jaipuria अलग-अलग NGO की मदद भी ले रहा है। कम समय में इस टीम ने गंभीर रूप से बीमार 1575 से अधिक रोगियों को चिकित्सा और आपातकालीन सहायता पहुंचाई है। अब तक इन्होंने 275 से ज्यादा ICU बेड, वेंटिलेटर बेड, ऑक्सीजन बेड और 350 से अधिक ऑक्सीजन सिलेंडर और कंसंट्रेटर दिए हैं। टीम ने इस मुश्किल घड़ी में 400 से ज्यादा ब्लड यूनिट और 550 से ज्यादा प्लाज्मा जरूरतों को पूरा करने के लिए पूरी सक्रियता से काम किया है। इसके अलावा, समय पर आवश्यक दवाएं और एम्बुलेंस सेवाएं भी दी है।

छात्रों को मिला सर्वश्रेष्ठ प्लेसमेंट

किसी भी बी-स्कूल से MBA की तैयारी कर रहे छात्रों के मन में प्लेसमेंट को लेकर कई सवाल उत्पन्न होते हैं। जैसे क्या मुझे प्लेसमेंट मिलेगा? क्या मुझे मेरी ड्रीम कंपनी में प्लेसमेंट मिलेगा? क्या मुझे मेरी इच्छा अनुसार प्रोफाइल मिलेगी? मेरे करियर का क्या होगा आदि? बता दें कि CMC टीम, फैकल्टी और पूर्व छात्रों के नेटवर्क द्वारा प्रदान की गई व्यक्तिगत सहायता के साथ Jaipuria Institute of Management के PGDM ग्रेजुएट अर्थव्यवस्था में मंदी के बावजूद सबसे अच्छा प्लेसमेंट हासिल करने में सक्षम हुए हैं।

तमाम चुनौतियों के बावजूद Jaipuria PGDM प्लेसमेंट 2021 में एक और मील का पत्थर साबित करने के लिए तैयार है। इंटरिम प्लेसमेंट रिपोर्ट की बात करें तो मई 2021 तक 900 से ज्यादा छात्रों ने विभिन्न कंपनियों में प्लेसमेंट प्राप्त की है, जो एक शानदार रिकॉर्ड है। वहीं बात करें पैकेज की तो PGDM 2021 क्लास का कुल औसत पैकेज 7.16 लाख रुपए रहा, तो वहीं शीर्ष 20% छात्रों को 10.05 लाख रुपए का औसत पैकेज मिला। अपनी प्रतिभा को साबित करके जिन कंपनियों में छात्रों ने अपनी जगह बनाई, उनमें Deloitte, HCL Technologies, ICICI Bank, AU Small Finance Bank, better.com, Aditya Birla Fashion & Retail शामिल हैं। कुछ दिनों पहले ई-कार्ट ने जो फ्लिपकार्ट का एक डिवीजन है, HR बिजनेस पार्टनर प्रोफाइल में 8.05 लाख के पैकेज के साथ 6 छात्रों की भर्ती की थी।

HR बिजनेस पार्टनर प्रोफाइल में चयनित PGDM 2019-21 बैच की मांडवी सिंह कहती हैं, "मुझे इस बात की बहुत खुशी है कि इस कठिन समय में Jaipuria Institute of Management ने मेरे सहपाठियों के लिए सर्वश्रेष्ठ प्लेसमेंट की व्यवस्था करने में कामयाबी हासिल की है। मेरे मेंटर्स और प्लेसमेंट टीम को बहुत-बहुत धन्यवाद, क्योंकि उनकी प्रेरणा ने मुझे हर तरह से विपरीत परिस्थितियों के बावजूद अच्छे से तैयारी करने में मदद की।"

मैनेजमेंट के क्षेत्र के लिए छात्रों को तैयार करने वाला संस्थान Jaipuria Institute of Management को AICTE ग्रेडेड ऑटोनॉमी (Graded Autonomy) की मान्यता मिली हुई है। यह मान्यता उन्हीं संस्थाओं को मिलती है, जो विभिन्न सुविधाओं के साथ छात्रों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा देते हैं। इसके अलावा, शिक्षा मंत्रालय द्वारा जारी NIRF 2020 रैंकिंग में Jaipuria के तीन संस्थान शीर्ष 100 में शामिल हैं। साथ ही, संस्थान को NAAC द्वारा 'ए' ग्रेड संस्थान के रूप में भी दर्जा दिया गया है। इनके PGDM प्रोग्राम्स को MBA के समकक्ष भारतीय विश्वविद्यालय संघ (AIU) द्वारा मान्यता प्राप्त है।

कोरोना वायरस की दूसरी लहर की वजह से कई छात्र अनिश्चितता, चिंता और दुख के साथ स्वास्थ्य और वित्तीय चुनौतियों का सामना कर रहे हैं। यह समय ऐसा है, जहां उन्हें आर्थिक और भावनात्मक रूप से सहयोग की जरूरत है, ताकि वह अपनी जिंदगी को आगे बढ़ा सकें और पढ़ाई को जारी रख सकें। Jaipuria इस दिशा में छात्रों के लिए पूरे समर्पण के साथ काम कर रहा है और छात्रों के बोझ को कम करने में मदद कर रहा है।

[लेखकः शक्ति सिंह]

नोट: यह आर्टिकल ब्रांड डेस्‍क द्वारा लिखा गया है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप