दिल्ली के मम्मी-डैडी इस वक्त बच्चों के भविष्य को लेकर चिंतित हैं। राजधानी में  दिल्ली में सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूल पिछले दिनों से बंद चल रहे हैं। ऐसे में पैरेंट्स को फिक्र है कि आखिरी लगातार स्कूलों को बंद करने से उनके बच्चों की पढ़ाई का बेहद नुकसान हो रहा है। दरअसल, राज्य में बढ़ते वायु प्रदूषण को देखते हुए दिल्ली सरकार ने सभी शैक्षणिक संस्थानों को बंद करने के निर्देश दिए थे। इसके चलते फिलहाल सभी सरकारी, सरकारी सहायता प्राप्त, प्राइवेट, एनडीएमसी, एमसीडी और कैंटोनमेंट बोर्ड के स्कूल अगले आदेश तक बंद चल रहे हैं। हालांकि दिल्ली सरकार आज यानी कि बुधवार 24 नवंबर को एक समीक्षा बैठक के दौरान स्कूलों, कॉलेजों और अन्य शैक्षणिक संस्थानों के साथ-साथ सरकारी कर्मचारियों के लिए वर्क फ्रॉम होम को फिर से खोलने पर फैसला ले सकती हैं।

इसी बीच ताजा अपडेट आ रही है कि अभिभावकों के एक समूह ने राष्ट्रीय राजधानी में लंबे समय से स्कूल बंद चलने पर चिंता जाहिर की है। अभिभावकों के एक समूह ने उपराज्यपाल अनिल बैजल को इस संंबंध में एक लेटर लिखा है। पत्र में, माता-पिता ने कहा है कि COVID-19 के कारण स्कूल पहले से ही लंबी अवधि के लिए बंद थे और अब वायु प्रदूषण के चलते स्कूलों को बंद किया गया है, जिसके कारण बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है।

ऐसे में अलग-अलग निजी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों के अभिभावकों ने दिल्ली सरकार को पत्र लिखकर स्कूलों को फिर से खोलने को कहा है। पैरेंट्स का कहना है कि सरकार ने पहले ही वायु गुणवत्ता सूचकांक में थोड़ा सुधार के मद्देनजर निर्माण कार्य की अनुमति दी है। ऐसे में पैरेंट्स चाहते हैं कि स्कूलों को भी खोलने की अनुमति दी जाए।बढ़ते प्रदूषण के कारण 13 नवंबर को स्कूल बंद कर दिए गए थे। इस पत्र पर वकीलों, प्रोफेसरों और सहित अलग-अलग बैकग्राउंड के 140 अभिभावकों ने हस्ताक्षर किए हैं। इसे मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया, उपराज्यपाल अनिल बैजल और कुछ अन्य को भेजा गया है।

वहीं माता-पिता का तर्क है कि कोविड -19 के कारण, बच्चे पहले से ही मास्क पहन रहे हैं, जिससे वायु प्रदूषण के संपर्क में कमी आएगी। पत्र में कहा गया है, प्राथमिक विद्यालयों के लंबे समय तक बंद रहने से हमारे छोटे बच्चों की शिक्षा पर महत्वपूर्ण हानिकारक प्रभाव पड़ रहा है। हम दिल्ली सरकार से इस फैसले पर पुनर्विचार करने और स्कूलों को फिर से खोलने का आग्रह करते हैं।

गौरतलब है कि राज्य में कोविड-19 महामारी के चलते 20 महीने के बंद होने के बाद, दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने 1 नवंबर, 2021 से 50% क्षमता पर दिल्ली में सभी कक्षाओं के लिए स्कूलों को फिर से खोलने के लिए सहमति दी थी। लेकिन बढ़ते प्रदूषण के चलते स्कूलों को फिर से बंद कर दिया गया था। इसी पर अब पैरेंट्स ने स्कूलों को खोलने की अपील की है।

Edited By: Nandini Dubey