दिल्ली हाईकोर्ट ने विदेश में दाखिला लेने वाले छात्र-छात्राओं के संबंध में डीयू को जरूरी दिशा-निर्देश जारी किए हैं। कोर्ट ने दिल्ली यूनिवर्सिटी से कहा है कि विदेश में हॉयर स्टडीज में दाखिला के लिए जाने वाले छात्र-छात्राओं के लिए ग्रेजुएशन के फाइनल ईयर के स्टूडेंट्स का रिजल्ट जल्द जारी कर दें, जिससे विदेश में दाखिले के लिए अप्लाई करने वाले स्टूडेंट्स को कठिनाईयों का सामना न करना पड़े। इस संबंध में न्यायमूर्ति हिमा कोहली और न्यायमूर्ति एस सुब्रमण्यम प्रसाद की पीठ ने कहा कि यह दिल्ली यूनिवर्सिटी की जिम्मेदारी है कि डीयू प्रशासन विदेशी यूनिवर्सिटी को आश्वस्त कराए कि स्टूडेंट्स का रिजल्ट जल्द ही घोषित कर दिया जाएगा। इस संबंध में न्यायमूर्ति हिमा कोहली और न्यायमूर्ति एस सुब्रमण्यम प्रसाद की पीठ ने कहा कि यह दिल्ली यूनिवर्सिटी की जिम्मेदारी है कि डीयू प्रशासन विदेशी यूनिवर्सिटी को आश्वस्त कराए कि स्टूडेंट्स का रिजल्ट जल्द ही घोषित कर दिया जाएगा।

इसके अलावा दिल्ली हाईकोर्ट ने अपने फैसले में यह भी कहा है कि डीयू फाइनल ईयर की परीक्षाएं 14 सितंबर से कराए। इसके साथ ही सभी संबद्ध कॉलेजों के प्राचार्यों को लिखा है कि ओपन बुक परीक्षा की ओबीई 2020 में उत्तर पुस्तिकाओं का डिजिटल मूल्यांकन शुरू करने को कहा है। डिजिटल कांपियों की जांच करने के लिए टीचर्स पोर्टल का ऐक्सेस अलग से दिया जाएगा। मूल्यांकन के बाद परीक्षक को अपना रिस्पॉन्स पोर्टल पर डालना होगा। इसके आधार पर परिणाम तैयार किया जाएगा।

इस साल डीयू ने यूजी और पीजी पाठ्यक्रमों के लिए ऑनलाइन ओपन-बुक परीक्षा 10 अगस्त से शुरू हुई और 31 अगस्त, 2020 तक चलेगा। हालांकि इस परीक्षा के माध्यम से छात्र-छात्राओं को समस्याओं का करना पड़ रहा है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक परीक्षा के दौरान कभी छात्रों को आंसरशीट अपलोड करने की दिक्कत आ रही है तो कभी और तकनीकी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। गौरतलब है कि इस बार मार्च में कोविड-19 संक्रमण फैलने की वजह से सभी शैक्षणिक संस्थान बंद कर दिए गए थे। इसके साथ ही मार्च में होने वाली परीक्षाएं भी टाल दी गई थीं। हालांकि अब डीयू ने ओपन बुक एग्जाम प्रणाली से परीक्षाएं शुरू की हैं।  

 

Edited By: Nandini Dubey